खास खबर/लोकल खबरसमाजसेवा

बरबीघा बाजार को अब जाम से मिलेगा निजात,नगर प्रशासन ने की अच्छी पहल

सड़क जाम! बरबीघा की सबसे बड़ी समस्या है और विकास में बाधक भी। आधा किलोमीटर का बाजार मोटरसाइकिल से जाने में आधा घण्टा लगता है। बड़ी गाड़ियां अगर बाजार में प्रवेश कर गई तो फिर पूछिये ही नहीं। गलती प्रशासन की भी है नो एंट्री के बाबजूद बड़ी गाड़ियां,ट्रैक्टर अंदर बाजार में घुस जाते हैं उन्हें रोकने वाला कोई नहीं होता।

क्या है समस्या की वज़ह ?

सबसे बड़ी बजह यहां के नागरिक खुद ही हैं। सड़कों पर इतना अतिक्रमण है,पूरी सड़क पर ही इनका कब्जा होता है। चलन्त फल वाले,सब्जी वाले ठेले पूरे बाजार में स्थायी रूप से बिराजमान हैं। स्थाई दुकानदार भी दुकान से बाहर सड़क पर कब्जा जमाए हैं। कोई रोके तो वो गरीब बिरोधी हो जाता है। इसके लिये कुछ राजनीतिक दल भी जिम्मेदार हैं प्रशासन ने थोड़ी पहल की नहीं कि उनको उकसाकर धरने पर बैठ जाते हैं, उनका तो कुछ नहीं बिगड़ता पर वो गरीब बेचारे धरने की बजह से दिन भर कमा नहीं पाते,धरने के लिए चन्दा देना पड़ता है सो अलग।

क्या है मामला?

अभी कुछ दिन पहले ही नगर प्रशासन के द्वारा मोटरसाइकिल स्टैंड और सब्जी विक्रेताओं के लिये व्यवस्था की गई और उनकी निगरानी के सी सी टी वी भी लगाया। लेकिन फल बिक्रेता फिर भी नहीं माने, सड़क पर ही ठेला लगाया।फलस्वरूप प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए कुछ ठेलों को जब्त कर लिया, जिसका फायदा आम आदमी पार्टी के नेता धर्म उदय ने उठाया और नगर प्रशासन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन भी हुआ। अपनी रोजी रोटी को बंद कर लोग सड़क पर उतरे और खूब नारेबाजी की।

क्या हुआ आज?

इस को लेकर नगर प्रशासन ने आज बरबीघा थाना परिसर में एक बैठक की जिसमें कार्यपालक पदाधिकारी कुमार ऋत्विक,नगर के सभापति रौशन कुमार,थानाध्यक्ष बिनोद झा,जद यू जिलाध्यक्ष अंजनी कुमार के अलावे कई राजनीतिक दल के लोग,नगर के वार्ड सदस्य,प्रबुद्ध पत्रकार और ठेला भेंडरों के प्रतिनिधि शामिल हुए। काफी गहमागहमी हुई, तिल का ताड़ भी किया गया। पर आखिरकार सबों ने मिलकर समस्या का एक समाधान निकाला और उसपर सभी पक्षों ने अपनी सहमति भी दी।

क्या हुआ फैसला?

5 जुलाई के बाद थाना चौक से डाकघर तक और फैजाबाद जाने वाली मुख्य सड़क तक कोई भी ठेला वाले बिक्रेता अपना ठेला नहीं लगाएंगे। ऐसा करने पर उनके ऊपर 500 रुपया के जुर्माना और 7 दिन के लिये उनके ठेले को जब्त कर लिया जाएगा। साथ ही उनका निबन्धन भी रद्द कर दिया जाएगा। नगर प्रशासन के द्वारा RNS स्कूल वाले रोड में और सरमेरा बस स्टैंड के पीछे जो पुराना मंडी है,उसको बनवाकर उनके हवाले किया जाएगा जहां वो आराम से अपनी दुकानदारी कर सकते हैं। दोनो जगहों के भरने के बाद जो ठेला भेंडर बच जाएंगे उनके लिए भी नगर प्रशासन समुचित व्यवस्था के लिये प्रतिबद्ध है।

Back to top button
error: Content is protected !!