जरा हट केशेखपुरा

अनुमंडलाधिकारी ने की आंगनबाड़ी के कार्यों की समीक्षा बैठक, दिए कई आवश्यक निर्देश

आज शेखपुरा अनुमंडल पदाधिकारी निशांत ने अपने प्रकोष्ठ में आंगनबाड़ी के कार्यक्रमों की विस्तृत समीक्षात्मक बैठक की। उन्होंने कहा कि प्रत्येक आंगनबाड़ी केंद्र में जहां उपयुक्त जगह हो, वहां पर एक एक सहजन का पेड़ अवश्य लगाएं। सहजन के पत्ते और और फलों में प्रचुर मात्रा में लौह तत्व पाया जाता है। जो हमारे शरीर की वृद्धि और विकास के लिए अति महत्वपूर्ण है। उन्होंने सीडीपीओ को निर्देश दिया कि अपने क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले सभी आंगनबाड़ी को 1 महीने में एक बार आप स्वयं और लेडी सुपरवाइजर के सहायता से प्रत्येक आंगनवाड़ी केंद्रों को निरीक्षण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण वाटिका होनी चाहिए। इससे बच्चों को सीखने और समझने में काफी मदद मिलती है। इसके अलावा पोषण वाटिका में अन्य फलदार पौधे भी लगाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने के लिए विशेष ध्यान दें। अनुमंडल पदाधिकारी ने स्पष्ट कहा कि सरकार के सभी कार्यक्रमों को वांछित लाभुकों तक पहुंचाना सुनिश्चित करें। बैठक के बाद डीपीआरओ सत्येंद्र प्रसाद ने बताया कि प्रत्येक प्रखंड में दो-दो आदर्श आंगनवाड़ी केंद्र बनाने के लिए कहा गया है। यह सरकार के एजेंडा में भी शामिल है। उन्होंने सभी विद्यालयों में पोषण वाटिका को विकसित करने के लिए कई निर्देश दिए। अनुमंडल पदाधिकारी ने कहा कि पोषण वाटिका से फल फूल के साथ-साथ ऑक्सीजन भी बनेगा। सरकार का निर्देश है कि हर परिसर को हरा परिसर करना है। उन्होंने आंगनबाड़ी केंद्रों को सूसंचालन करने के लिए सीडीपीओ को कई और आवश्यक निर्देश दिए।

Back to top button
error: Content is protected !!