चुनावशेखपुरा

राजनीतिक दल और मीडिया के साथ कार्यशाला आयोजित, विधानसभा चुनाव को लेकर विभिन्न बिंदुओं पर हुई चर्चा

शेखपुरा की डीएम इनायत खान के आदेश के आलोक में आज समाहरणालय के मंथन सभागार में मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों एवं मीडिया के साथ बिहार विधानसभा निर्वाचन से संबंधित एक प्रशिक्षण सह कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें ईवीएम, वी वी पैट ,बी यू, सी यू के बारे में पावर प्रेजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी गई। मास्टर ट्रेनर द्वारा बताया गया कि बूथ पर मतदान के एक घंटा पूर्व सभी राजनीतिक दलों के पोलिंग एजेंट अवश्य पहुंच जाएं। मॉक पोल मतदान के एक घंटा पहले किया जाता है। मॉक पोल में 50 मतपत्र डाला जाता है, जिसकी बाद में काउंटिंग की जाती है। फिर उसको डिलीट कर दिया जाता है। उन्होंने बताया कि मतदान के समय नीला बटन दबाने पर बीप की आवाज होती है और एक पर्ची भी मशीन के अंदर कट कर गिर जाता है। तब समझा जाता है कि आपका मतदान पूर्ण हो गया। उन्होंने बताया कि मतदाता धैर्य रखें और जब तक पर्ची नहीं गिर जाए तब तक वहां से नहीं हटें। जिले में कुल 29 मतदान केंद्र के स्थान में परिवर्तन किया गया है। डीपीआरओ शेखपुरा ने बताया कि इस विधानसभा निर्वाचन में कुल मतदान केंद्रों की संख्या 690 है। शेखपुरा विधानसभा में मतदान केंद्रों की संख्या 263 एवं सहायक मतदान केंद्रों की संख्या 104 कुल 367 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। उसी प्रकार बरबीघा विधानसभा क्षेत्र में मतदान केंद्रों की संख्या 234 और सहायक मतदान केंद्रों की संख्या 89 कुल मतदान केंद्र की संख्या 323 होगी। ईवीएम मशीन में किसी प्रकार की संशय या शंका की कोई गुंजाइश नहीं है। मतदान को पारदर्शी एवं निष्पक्ष ढंग से करने के लिए मॉक पोल और एफएलसी आदि की जाती है। उप निर्वाचन पदाधिकारी प्रशांत शेखर ने बताया कि कोविड-19 के मद्देनजर मतदान के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। इसमें सोशल डिस्टेंसिंग की
व्यवस्था की गई है। प्रत्येक बूथों पर 6 फीट की दूरी पर गोला बनाकर मतदाता खड़े रहेंगे। इस वर्ष सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान रखते हुए 2 काउंटिंग हॉल जवाहर नवोदय विद्यालय में बनाया जाएगा। मतदान के समय मास्क लगाना अनिवार्य होगा। अंगुली पर जो निशान लगाया जाएगा वह कोविड-19 के संक्रमण से मुक्त होगा। जिन नागरिकों का अभी तक मतदाता सूची में नाम दर्ज नहीं हुआ है, अबिलंब 29 अगस्त के विशेष शिविर में अवश्य करवा लें। इसके तहत बाहर से आने वाले मजदूर, नवविवाहिता महिलाएं, नवमतदाता, दिव्यांग आदि व्यक्तियों पर विशेष ध्यान रखा जा रहा है। आज के बैठक में खिलाफत अंसारी (जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी), कुंदन कुमार (सहायक योजना पदाधिकारी), सत्येंद्र प्रसाद (डीपीआरओ शेखपुरा), सतीश कुमार सिंह (डीपीओ) के साथ-साथ कई अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button
error: Content is protected !!