जरा हट केराजनीतिशेखपुरा

नवजात बच्चे की चोरी के मामले में रालोसपा ने दी आन्दोलन की चेतावनी, कहा- सरकार की कानून व्यवस्था हो चुकी है बुरी तरह फेल

शेखपुरा :- सदर अस्पताल में चार दिन पहले एक नवजात बच्चे की चोरी कर ली गई। सामान्य चोरी आम बात है, लेकिन यह सामान्य चोरी नहीं है। उस मां की कल्पना करके देखिये जिसने एक दिन पहले बच्चे को जन्म दिया है और उसके बच्चे को चुरा लिया गया। लेकिन पुलिस इस मामले को सामान्य चोरी की तरह ले रही है, यह चिंता का बिषय है। रालोसपा ने पुलिस प्रशासन को चार दिनों का अल्टीमेटम देते हुए उसकी बरामदगी की गुहार लगाई है। अन्यथा आंदोलन पर उतरने की चेतावनी दी है। रालोसपा के अभियान समिति के प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्रनाथ इस संबंध में प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था को लेकर बड़ी-बड़ी बातें कहीं जा रही है, लेकिन इससे बुरी स्थिति क्या होगी इसकी कल्पना की जा सकती है। उन्होंने कहा कि शेखपुरा का एक व्यक्ति कोरोना का मरीज एनएमसीएच से लापता हो गया। इस घटना को एक माह पूरा होने को है लेकिन वह व्यक्ति मृत है या जीवित, सरकार इस संबंध में कुछ भी नहीं बता रही है। इसी तरह से शेखपुरा सदर अस्पताल से नवजात बच्चे की चोरी कर ली गई है। अब तक कुछ भी पता नहीं चल पाया है। इसमें कौन शामिल है यह किसी को पता नहीं लेकिन उस मां की कल्पना कीजिए जिसके गोद से एक दिन पहले जन्म लिए बच्चे को चुरा लिया गया उस पर क्या बीत रही होगी। पुलिस इस मामले में अब तक किसी मुकाम तक पहुंचने में विफल है। अधिकारी किस प्रकार से काम कर रहे हैं, यह समझा जा सकता है। दोनों ही मामले में सीसीटीवी काम नहीं कर रहा है। जितेन्द्र नाथ ने कहा की इससे संस्थागत प्रसव के लिये अस्पताल आने वाली गर्भवती महिलाओं में भय व्याप्त है और वे अस्पताल आने से डरने लगी हैं। उन्होनें महिला जनप्रतिनिधियों से इस मामले को लेकर सड़क पर उतरने की अपील की और कहा कि इस मामले को लेकर रालोसपा बिहार के डीजीपी से मिलकर अपनी बात रखेगा। इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री से मिलकर भी इस संबंध में बात रखी जाएगी। अगर जरूरत पड़ी तो इस मुद्दे को लेकर पूरे बिहार में आंदोलन छेड़ा जाएगा। इस मौके पर प्रदेश महासचिव बिपिन चौरसिया, अतिपिछड़ा नेता विद्यासागर उर्फ विकास चंद्रवंशी उपस्थित थे।

Back to top button
error: Content is protected !!