खास खबर/लोकल खबरबिहार

सुशांत सिंह मामले की जांच में मुम्बई गए पटना के सिटी SP को जबर्दस्ती किया गया क्वांरटीन, बिहार के डीजीपी ने ट्वीट कर दी जानकारी

सुशांत सिह राजपूत मामले में बिहार पुलिस द्वारा की जा रही जांच को महाराष्ट्र पुलिस हर हाल में रोकना चाहती है। रविवार की रात पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को जबरदस्ती 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन कर दिया गया। दरअसल सुशांत सिंह मामले में कई अहम सुराग मिलने के बाद बिहार सरकार ने पटना से सिटी एसपी विनय तिवारी को मुंबई भेजा था। रविवार को मुंबई एयरपोर्ट से बाहर आने के बाद सिटी एसपी विनय तिवारी ने पहले से मुंबई में मौजूद बिहार पुलिस के चारों पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने वहां अपनी टीम द्वारा की गई छानबीन और जमा किए गए सबूतों की जानकारी ली। बिहार पुलिस के मुताबिक रविवार की देर रात सिटी एसपी विनय तिवारी अपनी टीम के साथ एक संदिग्ध से पूछताछ कर रहे थे। इसी दौरान रात में लगभग 11 बजे मुंबई महानगरपालिका की टीम ने कोरोना वायरस संक्रमण का हवाला देकर सिटी एसपी के हाथ पर होम क्वारंटीन की मुहर लगाकर उन्हें होम क्वारंटीन कर दिया।

डीजीपी ने ट्वीट कर दी इस बात की जानकारी

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने देर रात इस मामले पर ट्वीट कर सिटी एसपी के हाथ पर लगे होम क्वारंटीन की मुहर की तस्वीर और वीडियो भी ट्वीट किया है।

गुप्तेश्वर पांडेय ने ट्वीटर पर लिखा है
“IPS अधिकारी विनय तिवारी अपने ऑफिशियल ड्यूटी पर पटना से मुंबई पहुंचे थे। उन्हें अपनी टीम का लीड करना था। लेकिन उन्हें रात के 11 बजे जबरन होम क्वारंटीन कर दिया गया है। वे गोरेगांव के एक गेस्ट हाउस में रह रहे थे। अब वे वहां से बाहर नहीं निकल सकते।”

एयरपोर्ट पर ही थी सिटी एसपी को रोकने की तैयारी

सूत्रों के मुताबिक पटना के सिटी एसपी को मुंबई एयरपोर्ट पर ही क्वारंटीन करने की योजना थी। लेकिन मुंबई एयरपोर्ट पर बड़ी संख्या में पहले से ही मीडियाकर्मी मौजूद थे। मीडिया से बचने के लिए योजना में फेरबदल कर महाराष्ट्र सरकार ने उनको वहीं क्वारंटीन किया जहां वे रहने वाले थे। अब वे कानूनन घर से बाहर नहीं निकल सकते।
जानकारी के मुताबिक मुंबई में जांच कर रही टीम के हाथ अहम सबूत लगे हैं, लेकिन मुंबई पुलिस सारे सुबूतों को छिपाने में लगी है। मुंबई पुलिस ने अब तक सुशांत के अपार्टमेंट का सीसीटीवी फुटेज, उनके फ्लैट से जब्त सामान, मोबाइल और लैपटॉप का डाटा, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, फोरेंसिक रिपोर्ट, फिंगर प्रिंट, केस डायरी की कॉपी, पूछताछ का ब्योरा में से कुछ भी पटना पुलिस को नहीं दिया है। मुंबई पुलिस ने जिन लोगों से पूछताछ की है और उनका जो बयान मीडिया में आया है उससे पटना पुलिस की जांच मेल नहीं खा रही है। जांच में आ रही परेशानियों को देखते हुए ही बिहार पुलिस ने आईपीएस अधिकारी को भेज कर मामले की सघन जांच कराने का फैसला लिया था। ज्ञात हो कि दो दिन पहले मुम्बई पुलिस ने सुशांत की सेक्रेटरी के आत्महत्या वाली फ़ाइल भी डिलीट कर दिया था।

Back to top button
error: Content is protected !!