मुआबजाराजनीतिशेखपुरा

रेलवे भूमि अधिग्रहण में मामले में किसानों के आंदोलन का असर, नप ने चर्चा हेतु बुलाई विशेष बैठक

Sheikhpura: बरबीघा के नारायणपुर मौजा में रेलवे द्वारा अधिगृहित भूमि के बदले मुआबजा का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। किसानों के द्वारा किया जा रहा आंदोलन अब अपना रंग दिखाने लगा है। इसको लेकर बरबीघा नगर प्रशासन भी हरकत में आ गया है। इसी संदर्भ में नगर परिषद के द्वारा विशेष बैठक आहूत की गई है। जिसमें किसानों की समस्या के निराकरण हेतु सभी आवश्यक बिंदुओं पर चर्चा की जाएगी।

इस बाबत जानकारी देते हुए नप के मुख्य पार्षद शोनु कुमार ने बताया कि मुआबजे के विवाद को लेकर किसानों के द्वारा आवेदन दिया गया था। आवेदन में वर्णित विषय पर चर्चा हेतु आगामी 13 जनवरी को बोर्ड की विशेष बैठक बुलाई गई है। जिसमें अंचलाधिकारी सहित सभी संबंधित अधिकारियों को भी भाग लेने का आग्रह किया गया है। बैठक में किसानों की समस्या के निराकरण हेतु उचित व आवश्यक कदम उठाने पर चर्चा किया जाएगा। ताकि जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान हो सके। इसके पूर्व मुख्य पार्षद के नेतृत्व में नप का एक प्रतिनिधि मंडल ने धरनास्थल पर भी गया था। जिसमें पूर्व सभापति रौशन कुमार भी शामिल थे।

बता दें कि नारायणपुर मौजा में भूमि अधिग्रहण के विवाद के चक्कर में शेखपुरा से नेउरा भाया दनियावां रेलखण्ड का निर्माण वर्षो से लंबित है। हालांकि कई बार प्रशासन के द्वारा विवाद सुलझाने का प्रयास भी किया गया। परन्तु बिना मुआबजा लिए किसान अपनी जमीन खाली करने को राजी नहीं हुए। अंततः रेलवे के द्वारा विवादित भूमि पर जबरन निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया। जिसके बाद सभी किसान शांतिपूर्ण आंदोलन पर उतारू हो गए। 15 दिन लगातार आंदोलन के बाद जनप्रतिनिधियों की तन्द्रा भंग हुई और सभी इस मामले में अपनी दिलचस्पी दिखाने लगे।

Back to top button
error: Content is protected !!