अपराधजन-समस्याशेखपुरा

बरबीघा के एकमात्र पार्क में असामाजिक तत्वों का अड्डा, बन गया है भैंस-बकरियों का चारागाह, कैसे होगा जीर्णोद्धार?

Sheikhpura: बरबीघा शहर का एकमात्र पार्क उपेक्षा का शिकार हो रहा है। यहां शहर के असामाजिक तत्वों ने अपना अड्डा बना लिया है। पार्क के अंदर दिन भर शहर के जुआरी लोग जुआ खेलते नजर आते हैं। वहीं शहर के सारे लफंगे भी दिनभर इसी पार्क में अपना डेरा डाले रहते हैं। गांजे एवं सिगरेट के धुएं की सुगंध बाहर सड़क तक पहुंचती है। जिसके कारण पार्क की स्थिति बद से बदत्तर होती जा रही है। सभ्य नागरिकों व बच्चों का इस पार्क में प्रवेश करना भी दूभर हो रहा है। शहर की महिलाएं तो इस ओर ताकना भी पसंद नहीं करतीं।

इसको लेकर पूर्व में कई बार स्थानीय मीडिया में खबरें भी प्रकाशित हुई हैं। परन्तु इस मामले में आज तक न तो स्थानीय प्रशासन और न ही स्थानीय जनप्रतिनिधियों के द्वारा किसी तरह की पहल की गई है। उपेक्षा का दंश झेल रहे शहर के बीचों-बीच स्थित यह पार्क मवेशियों का चारागाह बन चुका है। यहां मनुष्य की जगह भैंस एवं बकरियां घास चरने आती हैं। हालांकि अभी कुछ दिन पहले नगर परिषद की सामान्य बैठक में पार्क का मुद्दा उठाया गया। इसके जीर्णोद्धार की बात भी की गई है। जिससे शहरवासियों की आस फिर से जग गई है।

परन्तु जीर्णोद्धार से पूर्व प्रशासन को इसे असमाजिक तत्वों से मुक्त कराना होगा। इसके बाद भी प्रशासन के लिए कई चुनौतियां होंगी? जैसे- जीर्णोद्धार के बाद यहां असमाजिक तत्वों के आगमन पर रोक लगे। पार्क में आने वाली महिलाओं और बच्चों को पूरी सुरक्षा मिले। ताकि वे शहरवासी बिना किसी भय के अपने परिवार के साथ छुट्टी का आनंद ले सकें। साथ ही महिलाएं व युवतियां अकेले आकर भी पार्क में बैठ सकें।

Back to top button
error: Content is protected !!