अपराधअबैध शराबशराब निर्माणशेखपुरा

उत्पाद विभाग की टीम ने घर में घुसकर महिलाओं बच्चों व बुजुर्गों को पीटा, उत्पाद अधीक्षक ने आरोपों का किया खंडन

Sheikhpura: शुक्रवार को शराब को लेकर की गई छापेमारी के दौरान चेवाड़ा नगर क्षेत्र के एक मोहल्ले में उत्पाद विभाग की टीम ने घरों में घुसकर उत्पात मचा दिया। विभाग के जवानों ने महिलाओं, बच्चों एवं बुजुर्गों को भी बेरहमी से पीटा। मोहल्ले की दुकानों में भी तोड़-फोड़ किया गया। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि पश्चिम टोले के लोग उत्पाद विभाग पर ऐसा आरोप लगा रहे हैं।

मोहल्लेवासियों का आरोप है कि उत्पाद विभाग के जवान सादी वर्दी में करीब 10 गाड़ी से पहुंचे और लोगों को अंधाधुंध पीटने लगे। जो लोग शराब के धंधे में संलिप्त नहीं रहते हैं। उनकी भी पिटाई की गई। इस घटना में करीब एक दर्जन लोगों को चोटें आई हैं। 7 वर्षीय अंजली कुमारी, 10 वर्षीय खुशी कुमारी, राजकुमार साव, विश्वनाथ चौरसिया, राजेश साव, किरण देवी, नीरज कुमार, सुजीत कुमार, मंजू साव सहित अन्य को चोट लगी है।

पुलिस की पिटाई से घायल कई लोग चेवाड़ा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कराने पहुंचे। जहां बीरेंद्र चौधरी की पुत्री निशा कुमारी की हालत ज्यादा खराब होने के कारण उसे रेफर कर दिया गया। इस पिटाई में उसके दाएं हाथ की हड्डी टूट गई थी। निशा दशमी की छात्रा है और 14 तारीख से उसका मैट्रिक का एग्जाम है। हाथ टूट जाने के कारण अब वो परीक्षा से भी वंचित हो जाएगी।

वहीं उत्पाद अधीक्षक सुदेश्वर लाल ने इन आरोपों का पूरी तरह खंडन कर दिया है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को विभाग के द्वारा कई थानाक्षेत्रों में अभियान चलाया गया था। जिसमें शराब के धंधे में संलिप्त व उसका सेवन करने वाले दर्जनों लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस कार्रवाई के दौरान चेवाड़ा में मोहल्ले के लोगों ने ही टीम पर पथराव कर दिया। उसी में सभी को चोटें आई है। पुलिस के द्वारा किसी की पिटाई नहीं की गई है।

पुलिस की पिटाई में जख्मी छात्रा

उधर सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि दो दिन पहले इस मोहल्ले में छापेमारी करने गई उत्पाद विभाग की टीम से मोहल्ले के कुछ शराब कारोबारियों ने बदतमीजी की थी। इसी को लेकर शुक्रवार को उन्हें सबक सीखाने विभाग की टीम वहां पहुंची। भारी संख्या में पहुंचे विभाग के जवानों के द्वारा की गई इस कार्रवाई में कुछ बेकसूरों को भी पीट दिया गया। जबकि शराब के असली कारोबारी वहां से बच निकले।

Back to top button
error: Content is protected !!