लापरवाहीशेखपुरास्वास्थ्य

लॉक डाउन का खुलेआम उल्लंघन करते पाए गए दुकानदार, लेबर अड्डे पर काम की तलाश में खड़े रहे मजदूर

कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण राज्य सरकार ने पूरे प्रदेश में 5 से 15 मई तक लॉकडाउन लगा दिया है। जिसमें आवश्यक सामग्री की दुकानों को सुबह 7 बजे से 11 बजे तक खोलने का आदेश दिया गया है। इसके अलावा सभी दुकानों को बंद करने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए स्थानीय प्रशासन को कड़ी कार्रवाई करने का आदेश भी दिया गया है।

इसी सिलसिले में आज लॉकडाउन के पहले दिन शेखपुरा जिले के बरबीघा बाजार का जायजा लिया गया। सुबह के 8:00 बजे के लगभग रेडीमेड, कपड़े, ज्वेलर्स आदि की कई बड़ी दुकानें खुली पाई गई। इन दुकानदारों में कोई भी गरीब दुकानदार नहीं है, बस पैसे की भूख ने इन्हें दुकान खोलने पर मजबूर कर दिया है। ये दुकानदार खुलेआम लॉकडाउन के कानून का उल्लंघन कर रहे हैं। इस दौरान बाजारों में कहीं भी पुलिस एवं प्रशासन के कर्मी नजर नहीं आ रहे हैं।

थाना चौक के सामने सब्जी मंडी का नजारा

इस दौरान थाना चौक स्थित सब्जी मंडी में भी लोगों की अच्छी खासी भीड़ लगी रही। इस लॉकडाउन में सबसे ज्यादा परेशानी का सामना मजदूर वर्ग के लोगों को करना पड़ रहा है।

काम की तलाश में खड़े मजदूर

शहर के महुआतल स्थित लेबर अड्डे पर इस दौरान भारी मात्रा में मजदूर काम की तलाश में खड़े दिखाई दिए। लॉकडाउन लगने के बाद इन मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का अभाव इनके चेहरे पर साफ देखा जा रहा था। मजदूरों ने हालांकि कैमरे के सामने अपना दर्द बयां करने से इंकार कर दिया, पर पिछले लॉकडाउन में भी इनकी स्थिति किसी से छिपी नहीं है। कैमरे बन्द करने पर उन्होंने बताया कि पहले जब बाजार खुला था तो कुछ भी काम मिल जा रहा था। अब तो परिवार का पेट पालना भी मुश्किल हो गया है। वे इस लेबर अड्डे पर इस उम्मीद में खड़े हैं कि कहीं कोई काम मिल जाये तो परिवार के लिए रोटी का जुगाड़ हो जाएगा।

Back to top button
error: Content is protected !!