चुनावराजनीतिशेखपुरा

शेखपुरा नगर परिषद की नवनिर्वाचित मुख्य पार्षद रश्मि कुमारी का जाति प्रमाण पत्र निकला फर्जी, विधायक ने पत्र लिखकर की थी जांच की मांग

Sheikhpura: 13 जनवरी शुक्रवार को नगर निकाय के सभी नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों का शपथ ग्रहण समारोह है। इसके ठीक पहले जिले से एक बड़ी खबर आ रही है। शेखपुरा नगर परिषद की मुख्य पार्षद रश्मि देवी के द्वारा नामांकन के दौरान चुनाव आयोग को दिया गया जाति प्रमाण पत्र फर्जी साबित हुआ है। जिसके कारण उनका निर्वाचन रद्द होने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

दरअसल रश्मि देवी अपने शपथ पत्र में फ़र्ज़ी जाति प्रमाणपत्र देकर मुख्य पार्षद बन गई है। इसको लेकर चुनाव में उनकी प्रतिद्वंद्वी मुख्य पार्षद प्रत्याशी शुक्ला देवी ने स्थानीय विधायक विजय सम्राट से गुहार लगाई थी। जिसके बाद विधायक ने पटना डीएम को पत्र लिखकर इस मामले के जांच की मांग की थी। मिली जानकारी के मुताबिक पटना डीएम ने दनियावां सीओ को जांच का जिम्मा सौंपा था। इस जांच में रश्मि देवी का जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया।

जांच के पश्चात पटना सिटी अनुमंडलाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि विधायक विजय कुमार के पत्र में वर्णित तथ्यों के आलोक में प्राप्त निर्देश पर पत्र के साथ संलग्न आवेदन में वर्णित तथ्यों की जाँच की गई। पत्र के साथ वर्णित आवेदन में परिवादी शुक्ला देवी द्वारा अनुरोध किया गया है कि अंचल कार्यालय दनियावां से निर्गत जाति प्रमाण पत्र, जो रश्मि कुमारी, पिता महेन्द्र प्रसाद, माता-बचनमा देवी, ग्राम+पो०- सलारपुर, जिला पटना के नाम पर निर्गत है। वो फर्जी दस्तावेज के अनुसार बनवायी गयी है। जाँच में गलत पाये जाने के आधार पर उक्त निर्गत जाति प्रमाण पत्र संख्या BCCCO/2022/7916077 दिनांक 14.09.2022 को ऑन लाईन पोर्टल पर निरस्त कर दिया गया है।सूत्रों के मुताबिक इसको लेकर मुख्य पार्षद प्रत्याशी शुक्ला देवी के द्वारा चुनाव आयोग को पत्र लिखकर उनका निर्वाचन रद्द करने की मांग की गई है। जिसके बाद अब रश्मि देवी के निर्वाचन पर चुनाव आयोग की तलवार लटकती दिखाई पड़ रही है। उनका निर्वाचन भी रद्द होने की संभावना जताई जा रही है। हालांकि इस मामले में अभी तक कोई भी अधिकारिक जानकारी नहीं मिल पाई है।

Back to top button
error: Content is protected !!