जन-समस्यामौसमशेखपुरा

कंपकंपाती ठंढ ने जीना किया मुश्किल, अलाव में प्लास्टिक का सामान जलाकर अपनी ठंढ भगा रहे दैनिक मजदूर

Sheikhpura: जिले में शीतलहर का प्रकोप लगातार जारी है। कभी कोहरा कभी हाड़ कँपाती ठंढी हवाओं ने लोगों का जीना दूभर कर दिया है। कोहरे के कारण जिसके कारण आम जनजीवन पर गहरा असर पड़ा है। लोगों का अनावश्यक घरों से बाहर निकलना बंद हो गया है। वहीं जिला प्रशासन ने भी मौसम की 10 वीं तक के सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। शहरी इलाकों में जगह-जगह सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था की गई है।

मौसम विभाग के मुताबिक सोमवार की सुबह जिले का अधिकतम तापमान 19.1 जबकि न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। विभाग की मानें तो अगले 48 घंटों के दौरान प्रदेश में कोई विशेष परिवर्तन नहीं होगा, तत्पश्चात् अगले 72 घंटों के दौरान रात्रि के तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस तक की क्रमिक वृद्धि होने की संभावना है। 12 जनवरी के बाद इस स्थिति में सुधार होने की गुंजाइश है।

बढ़ती ठंढ के कारण सबसे ज्यादा परेशानी दैनिक मजदूरों को हो रही है। फुटपाथी दुकानदार के साथ रिक्शा एवं ठेला चालक भी भीषण ठंढ की मार झेल रहे हैं। ऐसे में वे सभी प्रशासन के द्वारा जलाए गए अलाव का सहारा लेकर अपना जीवन बचा रहे हैं। अलाव कम पड़ने पर प्लास्टिक का सामान जलाकर अपना शरीर गर्म कर रहे हैं। हालांकि इससे निकलने वाला हानिकारक धुआं वातावरण में जहर घोल रहा है। परन्तु इसके सिवा इनके पास कोई और चारा भी नहीं है।

बरबीघा के थाना चौक पर अलाव सेंकते हुए मजदूरों ने बताया कि सर बहुत ठंढी है। हमलोगों के पास ज्यादा गर्म कपड़ा भी नहीं है। पर क्या करें नहीं कमाएंगे तो परिवार को भूखे ही सोना पड़ेगा। घन्टा दो घन्टा कभी धूप निकलता है तो अच्छा लगता है। नहीं तो काम के बाद चौक-चौराहों पर अलाव ताप कर अपना जीवन बचाते हैं। जब हमारी संख्या ज्यादा हो जाती है तो अलाव भी कम पड़ जाता है। ऐसे में हमलोग अगल-बगल के दुकान से प्लास्टिक का टूटा-फूटा सामान जलाकर अपना काम चलाते हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!