खास खबरखास खबर/लोकल खबरशेखपुरा

नववर्ष के मौके पर गिरिहिंडा पहाड़ पर भी मेले जैसा माहौल, लोगों ने परिवार के साथ उठाया पिकनिक का आनंद

Sheikhpura: जिले में हर्षोल्लास के साथ नववर्ष 2023 का स्वागत किया गया। इस अवसर पर जिले के सभी बाजारों में चहल-पहल देखने को मिला। होटलों एवं पार्कों में दिनभर महिलाओं, युवाओं व बच्चों का जमावड़ा लगा रहा। वहीं जिला मुख्यालय के गिरिहिंडा पहाड़ पर भी मेले जैसा माहौल देखने को मिला। सैकड़ों की संख्या में पूरे परिवार के साथ स्थानीय लोग पिकनिक का आनंद उठाने यहां पहुंचे।

इस दौरान महिलाओं ने जहां पहाड़ पर चूल्हा बनाकर स्वादिष्ट भोजन पकाया। वहीं पुरुषों ने भी लकड़ी आदि चुनकर उनका हाथ बंटाया। जबकि बच्चों ने पहाड़ पर घूमकर व फ़ोटो खिंचवाकर खूब आनंद उठाया। इसको लेकर जिला प्रशासन की ओर से भी पूरी तैयारी देखने को मिली। लोगों की सुरक्षा के लिये पर्याप्त मात्रा में पुलिस कर्मियों की तैनाती के साथ-साथ अन्य इंतजाम भी किये गए थे।

इस मौके पर खुशी व्यक्त करते हुए बुधौली मोहल्ले की आशा देवी ने कहा कि कोरोना के कारण पिछले 2 साल से हमलोग पहाड़ पर नहीं आ रहे थे। इस बार मौका मिला तो पूरे परिवार के साथ पहुंचे हैं। वहीं सुमन ने कहा कि भगवान जल्द से जल्द दुनिया को कोरोना से छुटकारा दिलाये। ताकि लोग आजादी से इस तरह का आनंद उठा सकें।

लोगों की सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस

बता दें कि शेखपुरा जिले की पहचान गिरिहिंडा पहाड़ पौराणिक दृष्टिकोण से भी काफी महत्वपूर्ण है। करीब 800 फीट ऊंची इसकी चोटी पर महाभारत काल में निर्मित भगवान शिव एवं माता पार्वती का मंदिर है। जिसे बाबा कामेश्वर नाथ के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि महाभारत काल में हिडिम्बा नाम की एक दानवी इसी गिरिहिंडा पर्वत के शिखर पर रहती थी। पांडव पुत्रों को जब निर्वासन काल सहना पड़ा था, तो धनुर्धर अर्जुन के बड़े भाई गदाधारी भीम कुछ वक्त के लिए इसी गिरिहिंडा पहाड़ पर ठहरे थे।इस दौरान उन्होंने हिडिंबा के साथ गंधर्व विवाह भी किया था। जिससे घटोत्कच नामक राक्षस पैदा हुआ था। मान्यता के मुताबिक गदाधारी भीम ने ही गिरिहींडा के पहाड़ पर इस शिवलिंग की स्थापना की थी। जिसके बाद भगवान शिव के आदेश के बाद विश्वकर्मा जी ने रातों-रात इस मंदिर का निर्माण कराया था। जो बाद में शिव-पार्वती मंदिर या बाबा कामेश्वर नाथ मंदिर के रूप में जाना जाने लगा।

Back to top button
error: Content is protected !!