धर्म और आस्थाशेखपुरा

बर्षो से चली आ रही ‘मृत्युभोज’ की परम्परा का किया बहिष्कार, सार्वजनिक कार्यों के लिये 50 हजार रूपया देने की बात कही

सदर प्रखंड के अवगिल गांव निवासी राम नंदन सिंह और रंजीत सिंह ने एक अनूठी मिसाल पेश की है। इन्होंने बर्षों से चली आ रही मृत्युभोज की रूढ़िवादी परम्परा का बहिष्कार करने का साहस दिखाया है। इनके 91 बर्षीय पिता कोकिल सिंह का निधन पिछले दिनों हो गया था।

इस बाबत उनके दोनों पुत्रों ने मृत्यु भोज का बहिष्कार कर दिया और भोज में खर्च होने वाली राशि (50 हजार रूपया) को गांव के सार्वजनिक कार्यों के लिए देने की बात कही। उनके इस निर्णय की गाँव वालों ने काफी सराहना की है।

[perfect_survey id=”2763″]

Back to top button
error: Content is protected !!