जानकारीशेखपुरास्वास्थ्य

बरबीघा रेफरल अस्पताल में अनाधिकृत व्यक्ति बन बैठा है चिकित्सकों का सहायक, चिकित्सक के नाम पर अलॉट आवास में वर्षों से अबैध रूप से कर रहा निवास

Sheikhpura: बरबीघा रेफरल अस्पताल में सरकारी नियमों के विपरीत अनाधिकृत व्यक्ति चिकित्सकों का सहायक बनकर मरीजों की देख-रेख एवं शल्य चिकित्सा का कार्य कर रहा है। मरहम-पट्टी से लेकर सुई लगाने सहित अन्य कार्य भी उसी से कराया जा रहा है। इतना ही नहीं कई वर्षों से वह व्यक्ति अबैध रूप से अस्पताल में बने चिकित्सक के आवास में ही स्थाई रूप से निवास भी कर रहा है। इस व्यक्ति का नाम बबलू कुमार है। इसकी पहुंच बहुत ऊपर तक होने के कारण आजतक इसपे कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक वो स्वास्थ्य विभाग से जुड़े एक एनजीओ के द्वारा अस्पताल में सुपरवाइजर के रूप में बहाल किया गया है। जिसका काम अस्पताल की साफ-सफाई की देखभाल करना है। परंतु वो इन कार्यों के बजाय मरीजों के मरहम पट्टी एवं सुई लगाने से लेकर अन्य सभी जरूरी सेवाएं दे रहा है। जो सरकारी नियमों के खिलाफ है। विश्वस्त सूत्रों ने यह भी बताया कि उसे अस्पताल के कई चिकित्सकों का प्रश्रय भी मिल रहा है।

इस संबंध में प्रभारी डॉ फैसल अरशद ने बताया कि वो एनजीओ के द्वारा सुपरवाइजर के पद पर बहाल है। उसके द्वारा मरीजों को सुई देने एवं अन्य कार्यों की जानकारी उन्हें नहीं मिली है। इसकी जांच की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ ये जानकारी मिली है कि वो अस्पताल परिसर में जिस आवास में कई वर्षों से रह रहा है वो अस्पताल में कार्यरत्त दंत चिकित्सक डॉ अखिलेश कुमार के नाम पर अलॉट किया गया है।

इस संबंध में जब डॉ अखिलेश से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि पूर्व प्रभारी डॉ आत्मानंद कुमार के कार्यकाल में ही यह आवास मेरे नाम पर अलॉट किया गया था, जो खाली नहीं था। इसको लेकर पूर्व में भी कई बार लिखित रूप से प्रभारी को सूचित किया गया है। परंतु कोई कार्रवाई नहीं हुई है। मेरे नाम से आवास अलॉट होने के कारण मुझे आवास भत्ता भी नहीं मिल रहा है।

बताते चलें कि हाल ही में सदर अस्पताल में भी एक ऐसा मामला सामने आया था। जिसपर सिविल सर्जन ने संज्ञान लेते हुए सदर अस्पताल के उपाधीक्षक को ऐसे व्यक्तियों को प्रश्रय देनेवाले पदाधिकारियों एवं कर्मियों के साथ-साथ अनाधिकृत व्यक्ति पर प्राथमिकी दर्ज करवाने का आदेश दिया था। अब देखना होगा कि इस अनाधिकृत व्यक्ति पर स्वास्थ्य विभाग क्या कार्रवाई करता है।

Back to top button
error: Content is protected !!