जानकारीप्रशासनशेखपुरा

शेखपुरा के 29 वें स्थापना दिवस पर कई कार्यक्रमों का हुआ आयोजन, बतौर मुख्य अतिथि शिक्षा मंत्री हुए शामिल

Sheikhpura: शेखपुरा का 29वां जिला स्थापना दिवस आज धूमधाम से मनाया जा रहा है। स्थापना दिवस को ऐतिहासिक एवं भव्य बनाने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा पुख्ता इंतजाम किया गया है। सुबह में स्कूली बच्चों के द्वारा प्रभातफेरी के रूप में प्रगति मार्च निकालकर इसकी शुरुआत की हुई। समाहरणालय परिसर में जिलाधिकारी सावन कुमार एवं पुलिस कप्तान कार्तिकेय शर्मा के नेतृत्व में अधिकारिओं के द्वारा पौधारोपण किया गया।

इसके बाद परेड ग्राउंड में मुख्य कार्यक्रम की शुरुआत हुई, जिसमें बतौर मुख्य अतिथि बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी शामिल हुए। वहीं विशिष्ट अतिथि के रूप में शेखपुरा विधायक सम्राट, बरबीघा विधायक सुदर्शन कुमार, पूर्व विधायक सह जद यू जिलाध्यक्ष रणधीर कुमार सोनी, जिला परिषद अध्यक्षा निर्मला देवी के साथ राजद नेता शम्भू यादव, लोजपा के इमाम गजाली व भाजपा के संजीत प्रभाकर भी मौजूद रहे।

कार्यक्रम में आये सभी अतिथियों का जिला प्रशासन की ओर से स्वागत किया गया। इस अवसर पर नवोदय विद्याविजयलय की छात्राओं ने स्वागत गान गाया वहीं जिलाधिकारी ने भी सबका अभिवादन किया। जिसके बाद मुख्य अतिथि के द्वारा दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम में सबसे पहले स्वास्थ्य सेवा में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए रोटरी क्लब के सदस्यों को सम्मानित किया गया। वहीं मुख्यमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना, मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना सहित अन्य सरकारी योजनाओं के लाभुकों को योजना का लाभ भी दिया गया। कार्यक्रम में जीविका समूह से जुड़ी महिलाओं ने भी अपनी कहानी लोगों को सुनाई। जिसमें उन्होंने बताया कि कैसे बिहार सरकार की सतत जीविकोपार्जन योजना ने उनकी तकदीर बदल दी। कभी मांग कर खाने वाला उनका परिवार आज सरकार की मदद से अपने पैरों पर खड़ा हो गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिक्षा मंत्री ने जिलेवासियों को स्थापना दिवस की बधाई देते हुए कहा कि स्थापना काल के बाद से अब तक जिले ने आशातीत प्रगति की है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार में जिले को प्रगति के शिखर तक पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि जिले के स्थापना काल 1994 के पहले से मेरा इस जिले से लगाव रहा है। पहले जहां लोगों को चापाकल का पानी भी नसीब नहीं होता था। वहां आज घर-घर नल का जल पहुंच गया है।

लाभुकों को दिया गया सरकारी योजनाओं का लाभ

शराबबन्दी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बिहार की महिलाओं की मांग पर ही मुख्यमंत्री ने इसे लागू किया था। कुछ लोग इस कानून को फेल बताते हैं। इसपर हत्या के कानून का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि 100 साल पहले यह कानून बना था तो क्या अब हत्याएं नहीं होती हैं। कुछ लोग अपने फायदे के लिये शराब की तस्करी करते हैं। परन्तु लोग जब जागरूक होकर पीना बन्द कर देंगे तब इसकी तस्करी अपने आप बन्द हो जाएगी। अपने अभिभाषण के दौरान शिक्षा मंत्री ने जिलाधिकारी सावन कुमार एवं पुलिस कप्तान कार्तिकेय शर्मा के कार्यों की भी प्रशंसा की। कार्यक्रम को विधायक सुदर्शन कुमार, विजय सम्राट, पूर्व विधायक रणधीर कुमार सोनी ने भी संबोधित किया। डीडीसी के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के बाद अतिथियों के द्वारा गुब्बारा उड़ाकर इस कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा की गई।

Back to top button
error: Content is protected !!