खास खबरजानकारीप्रशासनशेखपुरा

पद से हटाये जा सकते हैं डीआरसीसी के प्रबंधक, केवाईपी संचालकों से घुस की मांग मामले पर जिलाधिकारी ने लिया संज्ञान

Sheikhpura: भ्रष्टाचार के मामले में जिलाधिकारी सावन कुमार का रुख बेहद स्पष्ट है। इसमें संलिप्त अधिकारिओं व कर्मियों पर वे लगातार कड़ी कार्रवाई कर रहे हैं। इस कार्रवाई की जद में इस बार डीआरसीसी के प्रबंधक भी आ गए हैं। जिला निबंधन एवं परामर्श केंद्र (डीआरसीसी) के प्रबंधक के द्वारा कौशल विकास केंद्र के संचालकों से घुस मांगने के मामले पर जिलाधिकारी ने संज्ञान ले लिया है। मगही न्यूज़ में शुक्रवार को यह खबर प्रकाशित होने के बाद जिलाधिकारी ने इस मामले की जांच का जिम्मा डीडीसी को सौंप दिया था।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक डीडीसी की जांच में यह मामला सत्य पाया गया है। उनके खिलाफ पूर्व में भी कई अन्य शिकायतें भी मिली थी। जिसके बाद जिलाधिकारी के द्वारा इस मामले में कड़ी कार्रवाई का अंदेशा जताया गया है। जल्द ही डीआरसीसी प्रबंधक रंजीत कुमार भगत को पद से हटाने की कार्रवाई हो सकती है। हालांकि इस बात की अभी अधिकारिक पुष्टि होनी बाकी है।

बताते चलें कि इसको लेकर जिले के कौशल विकास केंद्र के संचालकों के द्वारा जिलाधिकारी सावन कुमार से शिकायत की गई थी। जिसमें डीआरसीसी के प्रबंधक के द्वारा सभी केंद्रों से 20 हजार रुपया डिमांड का आरोप लगाया था। वहीं दूसरी तरफ कार्यालय में अपना वेरिफिकेशन कराने आये छात्र व छात्राओं ने भी डीआरसीसी के कर्मियों के द्वारा परेशान किये जाने की बात कही थी। जिसके बाद इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने जांच का निर्देश दिया था।

Back to top button
error: Content is protected !!