राजनीतिशेखपुरा

*रेलवे के निजीकरण से छात्रों की आखिरी उम्मीद भी ध्वस्त: रालोसपा*

केंद्र सरकार ने 109 प्राइवेट ट्रेन चलाने का ऐलान किया है। साथ ही यह भी खबर आ रही है कि रेलवे भर्तियों पर रोक लग गई है। पिछड़ेपन से जूझ रहे बिहार के लिए दोनों ही फैसले झटका देने वाले हैं। यह बात रालोसपा के राष्ट्रीय महासचिव राहुल कुमार ने कही। उन्होंने कहा कि बिहार के छात्रों के लिए रेलवे नौकरी देने वाली सबसे बड़ी संस्था थी और नए फैसले से सालों से प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के साथ साथ आने वाले भविष्य की संभावनाओं को लेकर झटका लगा है।
रालोसपा नेता ने जनसंवाद कार्यक्रम के तहत क्षेत्र भ्रमण के दौरान यह बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि रेलवे के निजीकरण से देश और बिहार को बड़ा नुकसान होगा। राहुल कुमार ने कहा कि ऐसे समय में जब देश कोरोना संकट से जूझ रही है मोदी लगातार देश विरोधी और जन विरोधी फैसले ले रही है। दुर्भाग्यपूर्ण यह भी है कि नीतीश कुमार की सरकार भी लोगों को राहत पहुंचाने में असफल साबित हो रही है। रालोसपा के राष्ट्रीय महासचिव राहुल कुमार के साथ साथ पार्टी के प्रदेश महासचिव बिपिन चौरसिया और प्रदेश सचिव प्रमोद यादव सहित अन्य कार्यकर्ता लगातार जनसंवाद कार्यक्रम में घूम रहे हैं। इन नेताओं ने रघुनाथपुर, ककराड़, महुली, बरसा, ससबहना, गंगापुर में जनसंवाद कार्यक्रम चलाया।

Back to top button
error: Content is protected !!