जन-समस्याराजनीतिशेखपुरा

बीज वितरण के नाम पर 36 लाख गवन का आरोप लगाते हुए भाकपा ने किसानों की समस्याओं को लेकर जिले भर में किया प्रदर्शन

Sheikhpura: भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के द्वारा जिले के अरियरी, शेखपुरा, चेवाड़ा समेत सभी प्रखंड मुख्यालयों पर राज्यव्यापी आंदोलन के तहत किसानों के विभिन्न समस्याओं को लेकर धरना और प्रदर्शन किया गया। शेखपुरा प्रखंड कार्यालय पर इस प्रदर्शन का नेतृत्व सीपीआई के अंचल प्रभारी सचिव नीधिश कुमार गोलू, जिला कार्यकारिणी सदस्य रमाशंकर सिंह, अधिवक्ता सहायक अंचल सचिव ललित शर्मा ने किया। वहीं अरिअरी प्रखंड कार्यालय पर अंचल सचिव केदार राम, सहायक सचिव रविंदर कुमार और श्यामसुंदर चौहान जबकि चेवाड़ा प्रखंड कार्यालय पर अंचल सचिव गुलेश्वर यादव, जिला कार्यकारिणी सदस्य राजेंद्र प्रसाद सिन्हा ने इसका नेतृत्व किया।

बीज वितरण के नाम पर 36 लाख गवन का आरोप
इस मौके पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव प्रभात कुमार पांडेय ने बताया कि जिले में सरकार की तरफ से किसानों से धान की खरीद नहीं के बराबर किया जा रहा है। जिसके कारण कड़ी मेहनत और पूंजी लगाकर उपजाया गया धान खेत और खलिहानों में ही पड़ा है। वहीं उन्होंने कहा कि किसानों को चना और मसूर का बीज बिना ओटीपी लिए ही मुहैया कराकर दुकानदारों द्वारा कागज पर करीब 36 लाख रुपये का गबन कर लिया गया।

शेखपुरा प्रखंड विकास पदाधिकारी को किसानों की समस्या से रूबरू कराते भाकपा नेता

दूसरी तरफ जिले के किसान खाद की भयंकर किल्लत झेल रहे हैं। जिसके वजह से खेतों में रबी फसल लगाने में परेशानी हो रही है। जबकि जिले के अंदर बड़े पैमाने पर खाद उर्वरक की कालाबाजारी धड़ल्ले से हो रही है। जिले के अंदर किसानों को बिना शुल्क और बिना भेदभाव के खाद और बीज मुहैया कराने की मांग रखी गई।

मांगे पूरी नहीं होने पर आंदोलन की धमकी
साथ ही उन्होंने कहा कि बिना वैकल्पिक व्यवस्था किए मजदूरों और गरीबों का मकान तोड़ने का नोटिस अंचलाधिकारी और नगर परिषद के द्वारा दिया जा रहा है। इस पर भी रोक लगाने की मांग की गई है। इसके अलावे जिला मुख्यालय स्थित श्री कृष्ण सिंह पुस्तकालय समेत जिले के सभी पुस्तकालयों को सुचारू रूप से चालू करने की मांग भी की गई। उन्होंने कहा कि उक्त मांगे यदि नहीं मानी गई और दोषियों को दंडित नहीं किया गया तो 26 दिसंबर को सीपीआई जिला कार्यालय में जिले भर के कार्यकर्ताओं को जुटाकर जन समस्याओं का मूल्यांकन किया जाएगा। उसके बाद जनवरी माह में जिला मुख्यालय में एक विशाल जनआंदोलन किया जाएगा।

Back to top button
error: Content is protected !!