जरा हट केजागरूकताजानकारीप्रशासनराजनीतिशेखपुरा

बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने लोकतंत्र के प्रति आस्था एवं संसदीय प्रणाली के प्रति जागरूकता लाये जाने” संबंधी कार्यक्रम में लिया भाग, जानें दिनभर के कार्यक्रम का हाल

Sheikhpura: बिहार विधान सभा भवन शताब्दी वर्ष एवं अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में “लोकतंत्र के प्रति आस्था एवं संसदीय प्रणाली के प्रति जागरूकता लाये जाने” संबंधी कार्यक्रम में भाग लेने बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा शेखपुरा आये।

आज बुधवार को उन्होंने सांस्कृतिक एवं विरासत दर्शन कार्यक्रम के तहत जिला मुख्यालय के गिरिहिंडा पहाड़ स्थित बाबा कामेश्वर नाथ मंदिर में पूजा अर्चना कर कार्यक्रम की शुरुआत की। उसके बाद सामाजिक नैतिक संकल्प अभियान के तहत बिहार केसरी डॉ श्री बाबू के जन्मस्थान बरबीघा नगर क्षेत्र के माउर गांव गए। श्री बाबू के जन्मस्थान जाने से पूर्व उन्होंने श्री बाबू चौक पर स्थित उनकी आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्होंने मीडिया को संबोधित भी किया।

21वीं सदी के नए भारत के लिए श्रीबाबू की धरती से दूर तक जाएगा संदेश
सामाजिक नैतिक संकल्प अभियान के तहत बिहार केसरी श्रीबाबू के जन्मस्थान बरबीघा के माउर गांव पहुंचे। जहां स्थानीय लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया। कार्यक्रम का शुभारंभ श्री बाबू की धर्मपत्नी रामरूची देवी के नाम से संचालित विद्यालय की छात्राओं ने स्वागत गीत एवं राष्ट्रीय गीत के साथ किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि बिहार के शासन-प्रशासन, कृषि, व्यापार, शिक्षा, संस्कार, न्याय और विकास हर जगह श्री बाबू की उपलब्धि है, इसे झुठलाया नहीं जा सकता। वहीं कार्यक्रम में मौजूद जनप्रतिनिधियों व अन्य लोगों को 5 सामाजिक अभिशापों से मुक्त, 5 सामाजिक वरदानों से युक्त तथा पांच सम्मानों से संपूर्ण कराने का संकल्प दिलवाया। वहीं अपने संबोधन के दौरान उन्होंने श्रीबाबू के ननिहाल नवादा जिले के खनमा गांव को श्रीबाबू का जन्म स्थान बता दिया। हालांकि बाद में ग्रामीणों के द्वारा साक्ष्य पेश करने के बाद कार्यक्रम के अंत में अपनी भूल का सुधार भी किया।

आज के युवा ही हमारे कल के भविष्य हैं
इसके बाद उनका काफिला जिला मुख्यालय के लिए रवाना हो गया। जहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। जिसके बाद उन्होंने डीआरसीसी भवन में आयोजित युवा संसद कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस संसद में जिले के छात्र-छात्राओं ने भी हिस्सा लिया। इस पूरे कार्यक्रम की मॉनेटरिंग विधानसभा अध्यक्ष स्वयं कर रहे थे। इस युवा संसद में प्रतिपक्ष और सदन के नेता के बीच गर्मा-गर्म चर्चा हुई। तारांकित प्रश्न के दौरान शिक्षा, स्वास्थ्य, शराबबंदी, सड़क, सिंचाई सहित कई महत्वपूर्ण मुद्दों से संबंधित प्रश्न पूछे गये। वहीं सरकार की ओर से सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री के पद पर पदासीन छात्र एवं मंत्री उनका जबाव देते नजर आए। इस के बाद बिहार विधान सभा भवन शताब्दी वर्ष एवं भारत अमृत महोत्सव के ऐतिहासिक अवसर पर युग के वाहक युवाओं के संवैधानिक अधिकार एवं कर्तव्य’ विषय पर वाद-विवाद भी हुआ। वहीं सामाजिक नैतिक संकल्प अभियान से संबंधित लघु फिल्म का प्रसारण भी किया गया। कार्यक्रम की समाप्ति के बाद विधानसभा के अध्यक्ष ने कहा कि इन युवाओं को इस संसद का माध्यम से संसदीय प्रणाली की व्यवस्था सीखने का मौका मिला। आज के युवा ही कल के भविष्य हैं और आने वाले कल में इन्हीं के बीच से कुछ विधायक, मंत्री सहित उच्च पदों पर भी जाएंगे।

सामाजिक कुरीतियों को खत्म कर नए भारत के निर्माण में मांगा सहयोग
इसके बाद उन्होंने समाहरणालय स्थित मंथन सभागार में शेखपुरा राजद विधायक विजय सम्राट डीडीसी सत्येंद्र प्रसाद सिंह, अपर समाहर्ता सत्यप्रकाश शर्मा सहित जिले के सभी प्रशासनिक पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों एवं बुद्धिजीवियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक में भाग लिया। जहां उन्होंने विशेषाधिकारी और सौजन्यता एवं समाज मे संवैधानिक कर्तव्य के प्रति जागरूकता कार्यक्रम के तहत कई सामाजिक मुद्दों पर गहन विचार-विमर्श किया। वहीं बेहतर सामाजिक कार्य करने वाले कई लोगों को सम्मानित भी किया। साथ ही उन्होंने वहां मौजूद सभी लोगों से सामाजिक कुरीतियों को खत्म कर नए भारत के निर्माण में सहयोग की अपील भी की। इसके अलावे उन्होंने समाज के लावारिश बच्चों को गोद लेकर उनके बेहतर भविष्य निर्माण की अपील भी की। उनकी इस अपील पर वहां मौजूद सभी लोगों ने इसमें अपनी भागीदारी की शपथ ली।

Back to top button
error: Content is protected !!