चुनावराजनीतिशेखपुरा

चेवाड़ा पंचायत की जनता ने सुनाया अपना फैसला, कई राजनीतिक धुरंधरों को मिली हार, जिला परिषद अध्यक्ष पद पर कब्जे की कवायद भी तेज

Sheikhpura: बिहार पंचायत चुनाव के सातवें चरण के मतदान की प्रक्रिया जिले में शांतिपूर्ण सम्पन्न हो गई। भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जिला मुख्यालय के डाइट भवन में स्थापित मतगणना केंद्र में बुधवार को मतगणना का कार्य भी सम्पन्न हो गया। चेवाड़ा प्रखंड के सभी पंचायतों की जनता ने अपना आखिरी फैसला सुनाते हुए अपना जनप्रतिनिधि चुन लिया। इस बार कई राजनीतिक धुरंधरों को भी हार का सामना करना पड़ा। जनता ने उन्हें यह अहसास दिलाया कि उनके वोट में कितनी ताकत होती है।

मतगणना केंद्र से आई खबर के मुताबिक सियानी पंचायत से लक्ष्मी मिस्त्री 252 वोट से अपने निकटतम प्रतिद्वंदी मदन साह को पराजित किया। लोहान से संजीव कुमार ने 1690 वोट लाकर अपने निकटतम प्रतिद्वंदी गीता देवी को 85 वोट से पराजित किया। वहीं एकरामा से हरिनंदन प्रसाद सिंह को 1320 मत प्राप्त हुए। इन्होंने अपने निकटतम प्रत्याशी शम्भू यादव को 22 वोट से हराया।

चकन्दरा पंचायत से सुनीता देवी ने गुलाम हस्मिन को 692 से हराया। जबकि छठियारा से फूल कुमारी ने 130 वोट से विजय प्राप्त किया। इन्हें 2108 मत प्राप्त हुए। लहना पंचायत से भरत कुमार यादव ने धर्मेंद्र महतो को 725 मतों के अंतर से हराया।
जिला परिषद सदस्य ने जीत का बनाया रिकॉर्ड
वहीं जिला परिषद सदस्य पद के लिए शिक्षक एवं युवा पंकज कुमार ने 6865 मतों से जीत दर्ज कर जिले में सर्वाधिक मतों से जीतने का रिकॉर्ड कायम किया है। माना जा रहा है कि ये बिहार में भी सर्वाधिक मत से जीत का रिकॉर्ड बन जायेगा। पंकज कुमार ने इसे जनता की जीत बताते हुए उनको धन्यवाद दिया है। इस जीत के बाद जिला परिषद अध्यक्ष पद पर कब्जे की कवायद भी तेज हो गई है। मतगणना केंद्र से मिली तस्वीरों के मुताबिक सभी जीते हुए उम्मीदवार गठजोड़ करने में जुट गए हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!