चुनावराजनीतिशेखपुरा

पत्नी को मुखिया बनाने के लिए पंचायत सचिव को करनी पड़ रही है काफी मशक्कत, सर्विस कोड का भी नहीं है ख्याल

Sheikhpura: अरियरी प्रखंड अंतर्गत चोढ़ दरगाह पंचायत की एक तस्वीर आपको दिखा रहा हूँ। तस्वीर में पंचायत सचिव मदन पासवान हैं, जो कारे, कैथमा और महसार पंचायत में पंचायत सचिव के पद पर कार्य कर रहे हैं। जो इन दिनों अपनी पत्नी को पुनः मुखिया पद पर जीत दिलाने के लिए अपने कर्तव्यों को भूल कर धर्मपत्नी को मुखिया बनाना ही अपना सबसे बड़ा कर्तव्य मान रहे हैं। चोढ़ दरगाह गांव में घूम-घूम कर मतदाताओं से वोट देने के लिए पर्चा थमा कर अपील कर रहे हैं।

पंचायत सचिव को शायद चुनाव आयोग के आदर्श आचार संहिता के नियमों की जानकारी नहीं है। और अगर जानकारी है भी तो पत्नी प्रेम की बात है, इसलिए ये पत्नी को मुखिया बनाना ही सबसे बड़ा कर्तव्य मान रहे हैं।

अब तो जिला प्रशासन को ही पंचायत सचिव को चुनाव आयोग के आदर्श आचार संहिता के नियमों का पालन कराने के लिए सोचना होगा। ताकि नौकरी में आने के समय अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने के लिए जो शपथ लिया है उसकी याद दिलाई जाए। ताकि शेखपुरा जिला में शांतिपूर्ण एवं नियमों के तहत हो रहे चुनाव में कोई खलल नहीं हो।

Back to top button
error: Content is protected !!