खास खबर

कानून के रक्षक से ही ससुरवाले मांग रहे दहेज, घर में घुसने पर चाकू से किया हमला, भागकर पहुंची थाने

Sheikhpura: एक तरफ जहां सूबे के मुखिया नीतीश कुमार दहेज मुक्त बिहार बनाने की बात कर रहे हैं। ऐसे मामलों के निपटारे के लिए सभी थानों में महिला सेल का गठन किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ बरबीघा थाना के सामस खुर्द गांव में शादी के एक साल बाद कानून के रक्षक से ही उसके सास-ससुर के द्वारा दहेज मांगे जाने का मामला प्रकाश में आया है। इसको लेकर बिहार पुलिस में कार्यरत्त महिला सिपाही पूजा कुमारी के द्वारा बरबीघा थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है।

दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक महिला सिपाही ने 10 अगस्त 2020 को सामस गांव निवासी सुरेश प्रसाद के पुत्र शशिरंजन उर्फ साहेब से कोर्ट मैरेज किया था। जिसके एक महीने बाद 30 सितंबर को हिन्दू रीति-रिवाज के साथ भी सात फेरे लिए गए। पूजा के पिता ने 8 लाख 51 हजार नगद दहेज के साथ साजो-सामान देकर बेटी को विदा किया। शादी के बाद वो अपने पति के साथ पावापुरी मेडिकल कॉलेज चली गई। कुछ महीने तक तो सब कुछ बिल्कुल ठीक-ठाक रहा। 23 जून 2021 को उनके घर में एक संतान ने भी जन्म लिया।

इसके बाद वो जब भी अपने घर आती तो ससुरालवालों के द्वारा उसे घर मे घुसने नहीं दिया जाता था। आज भी बुधवार को जब उसने अपने घर जाने की कोशिश की तो सास-ससुर के द्वारा 5 लाख दहेज लेकर आने के बाद ही घर मे घुसने की बात कही गई। जब उसने इस बात का विरोध किया तो सास-ससुर के साथ दोनों देवरों रविरंजन एवं राजीव रंजन ने मिलकर चाकू से उसके ऊपर हमला कर दिया। साथ ही उसके साथ अभद्र व्यवहार भी किया गया। महिला सिपाही किसी तरह अपनी जान बचाकर वहां से निकली और थाने पहुंची।

इस संबन्ध में थानाध्यक्ष जयशंकर मिश्र ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब यहां कानून के रखवाले के साथ ही इस तरह का बर्ताव किया जा सकता है तो आम जनता के साथ क्या नहीं होता होगा।

Back to top button
error: Content is protected !!