शेखपुरास्वास्थ्य

आशा व ममता कार्यकर्त्ताओं का एकदिवसीय हड़ताल, अस्पताल के मुख्य द्वार को घेरकर लगाया लगाया नारा

Sheikhpura: उचित मानदेय सहित 12 सूत्री मांगों को लेकर जिले भर की आशा व ममता कार्यकर्त्ताओं ने शुक्रवार को एक दिवसीय हड़ताल किया। इस राज्यव्यापी हड़ताल का जिले की स्वास्थ्य सेवाओं पर भी काफी असर पड़ा। दूर-दराज से आने वाले मरीजों को भी काफी परेशानी हुई, वहीं कोरोना टीकाकरण व जांच अभियान पर भी इसका असर देखने को मिला।

बरबीघा रेफरल अस्पताल में आशा कार्यकर्त्ताओं के द्वारा मुख्य द्वार को घेर कर घण्टों प्रदर्शन किया गया। इस दौरान उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारे भी लगाये। साथ ही किसी भी स्वास्थ्य कर्मचारी व मरीज को अस्पताल के अंदर जाने नहीं दिया गया। मरीज व स्वास्थ्य कर्मी घण्टों बाहर इंतजार करते पाए गए।

अस्पताल के मुख्य द्वार पर नारा लगाती आशा फैसिलिटेटर

इस संबन्ध में आशा व ममता कार्यकर्त्ताओं ने बताया कि सरकार हमें कार्य के अनुरूप मानदेय नहीं देती है। कोरोना काल में सरकार ने जो घोषणा की वो अभी तक पूरा नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि आशा फैसिलिटेटर को सरकारी कर्मी घोषित करते हुए 21 हजार मानदेय दिया जाय। अगर हमारी मांगें पूरी नहीं करेगी तो हमें मजबूरन अनिश्चित कालीन हड़ताल का फैसला करना पड़ेगा।

Back to top button
error: Content is protected !!