अपराधजानकारीशेखपुरा

दलित उत्पीड़न के मामले में दोषी को तीन वर्ष की सुनाई सजा

Sheikhpura: सोमवार को विशेष न्यायाधीश सह एडीजे प्रथम मोहम्मद ग्यासउद्दीन की अदालत ने दलित उत्पीड़न के मामले में एक अभियुक्त को दोषी पाते हुए 3 वर्ष का सजा दिया। दोषी करार व्यक्ति जिले के अरियरी थाना अंतर्गत विद्यापुर गांव निवासी रविंद्र महतो के पुत्र रवीश कुमार महतो है। सूचक भी उसी गांव का दलित व्यक्ति है।

विशेष लोक अभियोजक चंद्रमौली प्रसाद यादव ने बताया कि वर्ष 2016 में 21 जनवरी को सूचक चंदन पासवान के द्वारा अभियुक्त के घर पर भाड़े का रुपया मांगने गया। उसने रुपये देने से इन्कार किया और उसे जमीन पर पटक दिया है। जिससे सूचक का दाहिने हाथ टूट गया और वह बेहोश पड़ा रहा। सूचक के द्वारा रवीश कुमार महतो के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज किया गया। मुकदमे के विचारण के दौरान 9 गवाहों की गवाही हुई।

जिसके बाद सोमवार को न्यायालय के द्वारा दोषी करार अभियुक्त को 3 साल की सजा दी गई। दाहिना हाथ तोड़ने के मामले में 3 वर्ष की सजा एवं दलित उत्पीड़न के मामले में दो माह की सजा के साथ ही दस हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। जुर्माना जमा नहीं करने पर दो माह का अतिरिक्त सजा भुगतना होगा।

Back to top button
error: Content is protected !!