अपराधशेखपुरा

जाली चालान का इस्तेमाल कर बालू माफिया प्रशासन की आंखों में झोंक रहे धुल, जानें कैसे काम करते हैं माफिया?

Sheikhpura: खनन माफियाओं पर जिला प्रशासन की पैनी नजर है। जिला प्रशासन के द्वारा इनके खिलाफ लगातार कार्रवाई भी हो रही है। बाबजुद इसके जिले में धड़ल्ले से बालू की अबैध बिक्री चालू है। इन माफियाओं ने प्रशासन की आंखों में धूल झोंकने के लिए एक नया तरीका ईजाद किया है। इसका इस्तेमाल कर वे खूब धन कमा रहे हैं और प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं है। मिली जानकारी के मुताबिक बालू माफिया इसके लिए जाली चालान का इस्तेमाल कर रहे हैं। जो देखने में हू-ब-हू असली लगता है। बिना सही जानकारी के इस जाली चालान की पहचान करना बेहद मुश्किल है। पुलिस की चेकिंग होने पर गाड़ी का ड्राइवर इसी चालान को दिखाकर आराम से वहां से निकल जाता है।

इस तरह की कालाबाजारी के कारण ईमानदारी से बालू का कारोबार कर रहे व्यवसायियों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। वहीं सरकार के राजस्व को भी नुकसान हो रहा है। इसका जिक्र करते हुए एक व्यवसायी ने बताया कि ये माफिया वैसे होते हैं, जिनके पास एक से ज्यादा ट्रैक्टर हैं। वे एक चालान का फोटोकॉपी करवाकर कई चालान बना लेते हैं, उसपर पुराने चालान का स्टिकर चिपका देते हैं। इस जाली चालान की पहचान करना बेहद ही मुश्किल होता है। इस कालाबाजारी को रोकना सरकार व प्रशासन के लिये बेहद ही चुनौतीपूर्ण है।

Back to top button
error: Content is protected !!