जन-समस्याशेखपुरा

कम रहा नदी का जलस्तर पर लोगों की परेशानियों में नहीं आई है कमी, जल-जमाव और बाढ़ के बीच फंस गया राहत कार्य

Sheikhpura: घाटकुसुम्भा प्रखंड क्षेत्र का शोक हरोहर नदी के जलस्तर में अब तेजी से गिरावट हो रही है। लगभग 3 से 4 फीट तक जलस्तर में कमी का अनुमान लगाया जा रहा है। प्रखंड मुख्यालय से बाउघाट जाने वाली सड़क से पानी उतर चुका है।

इस सड़क से दोपहिया वाहनों का आवागमन भी शुरू हो चुका है। वहीं पानापुर, जितवारपुर, प्राणपुर की सड़कों पर भी पानी कम रहा है। जबकि मुड़बरिया में जलस्तर में कमी के बाबजूद अभी तक चारों तरफ से पानी से घिरा है। बीते 20 दिन की विकट स्थिति के बाद अभी भी यहां के लोगों की परेशानियां कमने का नाम नहीं ले रही है। यहां के निवासिओं का रोजी-रोजगार बन्द हो गया है। लोग घर की छतों पर हैं, मवेशियों के ठिकाना सड़कों पर बन गया है। गरीबों के कई खपरैल मकान बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। घर में सांप-बिच्छुओं का डर भी लगातार सता रहा है। वहीं दूसरी तरफ राज्य सरकार के द्वारा बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के बदले जल-जमाव का क्षेत्र घोषित किये जाने के कारण लोगों की परेशानियां और भी बढ़ गई हैं। हालांकि जिलाधिकारी इनायत खान के निर्देश पर प्रशासन के द्वारा आवागमन हेतु नाव चलाया जा रहा है। साथ ही प्लास्टिक एवं अन्य सामग्री का वितरण भी किया जा रहा है। आम लोग भी एक दूसरे की मदद भी कर रहे हैं। पर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित नहीं होने के कारण यहां के निवासिओं को उचित राहत नहीं मिल रहा है। जिसके लिए यहां के निवासिओं ने आक्रोश भी जताया है। जल-जमाव और बाढ़ के इस फैसले के बीच लोगों की परेशानियों का फिलहाल कोई निदान निकलता नहीं दिख रहा है।

Back to top button
error: Content is protected !!