खास खबर

हेयर फॉल की होमियोपैथी दवा/उपचार

पिछले दिनों कई मित्रो ने व्यक्तिगत तौर पर फ़ोन और मैसेज कर पूछा था कि बाल झड़ने की समस्या से पीड़ित हैं । तरह तरह के मंहगे shamboo और जेल के बाद भी उनके बाल तेजी से झर रहे हैं और बालो का समुचित विकाश भी नही हो रहा हैं । आज के दौर में यह समस्या बहुत आम हो गई हैं । इसके कई कारण हो सकते हैं । आहार में प्रोटीन और फाइबर की कमी, तनाव युक्त जीवन शैली और कई बार तो हेरेडिटरी भी यह समस्या होती हैं ।

आज इस समस्या के उपचार के लिए दवाओं पर चर्चा करेगे । पर एक बात जरूरी तौर पर जान ले, बाल और नाखून प्रायः मृत कोशिका होती हैं इसलिए सीधे तौर पर अंतर अनुभव करने में या यूं कहें कि इसकी दवाओं को जड़ में असर करने में दूसरी दवाओं की अपेक्षा कही अधिक समय लगता हैं । इसलिए यह जरूरी हैं कि हम धैर्य के साथ दवाओं का कम से कम 6 से 8 माह तक लगातार सेवन करे तभी फायदा दिखेगा।

उपचार के लिए दवा;-

1. R 89 – (DR Reckweg कंपनी की) यह दवा बहुत
ही प्रभावशाली हैं । होमियोपैथी में करीब 70 फीसद
मरीजों को यही दवा दी जाती हैं । इसका अंकित मूल्य
280 रहता हैं जो आपको दवा दुकान पर 250 तक मे
मिल जाता हैं । बालो से संबंधित समस्या के लिए यह
गुणकारी औषधि मानी जाती हैं । 20- 20 बूंद दिन में
तीन बार आधा कप (छोटा कप) पानी मे मिलाकर
लेना है ।

2.अब पांच दवाओं के संयोजन से एक मिश्रण तैयार
कर ले । दवा का नाम क्रमशः निम्नलिखित हैं ;-

A.Arnica Montana Mother Tincture
B.Jaborandi Mother Tincture
C.Thuja Mother Tincture
D.Ceanonthus Mother Tincture
E.Cochlearia Armoracia Mother Tincture

सभी दवाओं को समान मात्रा में मिलाकर 5-7 बूंद पुरुष व 15-20 बूंद महिलाएं , सर में लगाने वाले तेल मे मिलाकर हल्के हाथों से मालिश करें । बाजार में मौजूद किसी भी तरह के सुगंधित तेल में यह मिश्रण न मिलाए । सरसो तेल, नारियल तेल, जैतून के तेल में मिलाकर रात्रि में सोने वक्त मालिश कर सो जाए ।

उपरोक्त वर्णित दोनों चीजो के नियमत उपयोग से आप निश्चितरूप से लाभान्वित होंगे और आपके बाल झड़ना रुक जाएगे । इसके साथ एक और काम करना हैं । हरि धनिया की पत्तियों को रात में उबाल कर रख ले । सुबह उसी से अपना सर धो ले । यह कम से कम 3 महीना करें

यह तीनों उपाय 90 फीसद तक आपको बाल झड़ने की समस्या से निजात दिला देगा । साथ ही साथ नए बाल आएगे । तनाव से मुक्त रहे । स्वस्थ रहे ।

Back to top button
error: Content is protected !!