मनोरंजनशेखपुरा

*भारत की समग्र चेतना का देशभक्ति गीत ‘यही तो मेरा देश है’ रविवार को होगा रिलीज*

बिहार की सोंधी महक के साथ-साथ देश के साहित्यिक-सांस्कृतिक चित्रण का प्रयास कर रहे हैं मुकेश अपने लिखे गीत को स्वर भी स्वयं संजीव मुकेश ने ही दिया है। ओनामा गांव से है गहरा रिश्ता, ननिहाल यहीं है संजीव मुकेश का।

Sheikhpura: भारत की साहित्यिक-सांस्कृतिक चेतना का एक गीत ‘यही तो मेरा देश है’ बहुत जल्द एक सिंगल एलबम के रूप में आप सब के सामने आने वाला है। गीत के लेखक हैं बिहार के प्रसिद्ध युवा कवि संजीव कुमार मुकेश।

इस गीत के प्रायोजक साई ग्रुप और इंस्टीच्यूशन्स के अध्यक्ष शिक्षाविद श्री अँजेश कुमार ने रिलीज के पूर्व अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि भारत के साहित्यिक-सांस्कृतिक समग्र चेतना का यह गीत निःसंदेह लीगों को काफी पसंद आएगा। संजीव मुकेश राष्ट्रीय स्तर पर हमेशा बिहार और मगही की आवाज अपनी कविता के माध्यम से बुलन्द करते आये हैं। साईं ग्रुप ऑफ इंस्टीच्यूशन्स हमेशा बिहार के प्रतिभा को आगे बढ़ने का काम करती रही है।
प्रसिद्ध संगीतकार ज़फ़र मिर्ज़ा द्वारा संगीबद्ध किए गए इस गीत को आवाज भी स्वयं कवि संजीव कुमार मुकेश ने ही दिया है। संजीव के अनुसार यह गीत भारत की समग्र चेतना का गीत है। इसमें पूरे भारत में मौजूद सभी अवयवों का एकीकृत चित्रण है जो परत-दर-परत भारत को समझने और उस पर गर्व करने का माध्यम बनता है। संजीव कुमार मुकेश कवि-सम्मेलन मंचों पर भी लगातार हिन्दी एवं मगही कविताओं का प्रतिनिधित्व करते रहे हैं। राष्ट्री मंचों और प्रमुख टेलीविज़न चैनलों के अलावा उनकी कविताएँ पत्र-पत्रिकाओं में भी प्रकाशित होती रही हैं।
इस गीत का फिल्मांकन देश की राजधानी दिल्ली सहित बिहार के कई स्थानों पर किया जा रहा है। वीडियो में नए बिहार की तस्वीर में जहाँ राजगीर का स्काई वॉक, नेचर सफारी तो पटना के सभ्यता द्वार को दिखाया जाएगा। वहीं ऐतिहासिक प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय सहित नवादा स्थित ककोलत जल प्रपात को भी स्थान दिया जा रहा है। कवि मित्र फाउंडेशन की प्रस्तुति इस गीत का निर्माण कर्मण्य इंटरटेनमेंट्स कर रहा है और इसके निर्देशक हैं कर्मण्य इंटरटेनमेंट्स के डाइरेक्टर प्रबुद्ध सौरभ। प्रबुद्ध सौरभ स्वयं भी लेखन से जुड़े हैं और उनकी कई रचनाओं पर भी गीत बन चुके हैं। इस से पहले उन्होंने ‘धरती की शान किसान’ और ‘मैं शक्ति’ समेत लगभग एक दर्ज़न गानों और शॉर्ट फ़िल्मों का निर्देशन किया है। गीत के वीडियो में पोएम भारद्वाज, पूजा शर्मा और लक्ष्मी भारद्वाज के साथ मीनाक्षी मुकेश भी नज़र आएंगीं। ग्राफिक्स डिज़ाइन पटना के प्रसिद्ध ग्राफिक्स डिज़ाइनर सौरभ कुमार ने किया है। इसे पूरे प्रोजेक्ट में शिक्षाविद अँजेश कुमार और पटना सिटी के कन्हाई लाल गुप्ता का सहयोग मिल रहा है।
साई ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स, ओनामा, शेखपुरा एवं इंस्टेंट लॉजिस्टिक, नई दिल्ली के सहयोग से वृहद पैमाने पर बन रहे इस गीत के लॉन्च को ले कर संजीव, कवि मित्र फाउंडेशन और कर्मण्य इंटरटेनमेंट्स एक बड़ी योजना बना रहे हैं ताकि यह गीत विभिन्न माध्यमों से लाखों लोगों तक पहुँच सके।
कौन हैं संजीव कुमार मुकेश
साहित्यिक पारिवारिक माहौल ने कविता लिखने को किया प्रेरित। पिता उमेश प्रसाद उमेश मगही के वरिष्ठ साहित्यकार हैं। पत्नी मीनाक्षी, मुकेश व नौ साल का बेटा सार्थक शांडिल्य भी कविता लिखता है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय में सहायक एग्जीक्यूटिव के पद पर कार्यरत मुकेश “सामयिक परिवेश” साहित्यिक पत्रिका के संपादक भी हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!