जन-समस्यालापरवाहीशेखपुरा

महीनों से गायब हैं स्कूल के शिक्षक, बच्चों को नहीं मिल सका है राशन, महीनों से नहीं हुई है सफाई

Sheikhpura: शेखोपुरसराय प्रखण्ड के पनयपुर गांव के प्राथमिक स्कूल में शिक्षक आते ही नहीं हैं। दरअसल इस स्कूल में दो शिक्षक कार्यरत्त हैं। पर कोरोना की दूसरी लहर के कारण लगे लॉक डाउन के बाद से ही स्कूल के शिक्षक गायब हैं। जबकि जिला प्रशासन के आदेश के मुताबिक स्कूल में 50% शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्य है। मध्याह्न भोजन के बदले विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र एवं छात्राओं के बीच राशन भी बांटने का निर्देश है। पर यहां शिक्षक के नहीं आने से बच्चों को मिलने वाली ये सुविधा भी नदारद है।

वहीं स्कूल परिसर का हाल देखने से ही पता लग जाता है। महीनों से स्कूल की सफाई नहीं हुई है। ग्रामीण स्कूल परिसर निजी इस्तेमाल कर रहे हैं। बरामदे का इस्तेमाल बकरी बांधने एवं उपले रखने में हो रहा है। खुले मैदान में गंदगी का ढेर लगा हुआ है, एक चापाकल है वो भी खराब है। इस बाबत पूछने पर ग्रामीण रंजय यादव, बिनोद यादव, पवन यादव, सुबोध यादव, मदन यादव आदि ने बताया कि महीनों से किसी गांववालों के द्वारा मास्टर जी को गांव या स्कूल में नहीं देखा गया है। इस कारण ग्रामीणों में काफी आक्रोश भी है। ग्रामीणों ने बताया कि सभी स्कूल में बच्चों को राशन बांटा जा चुका है, यहां के बच्चे इस सुविधा से भी बंचित हैं। इस बाबत जब स्कूल के प्रभारी प्रधानाध्यापक से सम्पर्क साधा गया तो उन्होंने बिना कोई जवाब दिए फ़ोन काट दिया। वहीं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी मिथलेश कुमार ने हुए कहा कि शिक्षकों की 50% उपस्थिति अनिवार्य है। वीडियो को हम सुबूत नहीं मानते हैं। अगर ग्रामीण लिखित शिकायत करेंगे तो कार्रवाई की जाएगी।

Back to top button
error: Content is protected !!