जन-समस्याशेखपुरा

गांव के रास्ते में कीचड़ होना बन गया अभिशाप, ग्रामीणों का नहीं हो रहा टीकाकरण

लगभग दो महीने पहले एक बार यहां टीकाकर्मी आये थे और बुजुर्गों को टीका लगाकर चले गए। उसके बाद कल गुरुवार को बगल के गांव पांची में टीका केंद्र लगा, जहां से ये खबर भिजवाया गया कि कीचड़ के कारण टीका कर्मी वहां नहीं जा पाएंगे।

Sheikhpura: जिला प्रशासन के द्वारा पूरे जिले में टीकाकरण महाअभियान चलाया जा रहा है। पर इस जिले का एक ऐसा भी गांव है, जहां रास्ते में कीचड़ होने के कारण टीका कर्मी गांव जाने से इंकार कर रहे हैं। ऐसे में जिला प्रशासन का ये अभियान कितना सफल होगा ये तो वक़्त ही बताएगा। ये मामला मूलभूत सुविधाओं से आज तक बंचित रहे शेखोपुरसराय प्रखंड अंतर्गत पांची पंचायत के नीरपुर गांव का है। गांव जाने के लिए कीचड़ भरा रास्ता ग्रामीणों के लिए अभिशाप बन गया है। इसके कारण यहां बुजुर्गों को छोड़कर किसी का भी कोरोना टीकाकरण नहीं हो सका है।

इस बाबत ग्रामीणों ने बताया कि लगभग दो महीने पहले एक बार यहां टीकाकर्मी आये थे और बुजुर्गों को टीका लगाकर चले गए। उसके बाद कल गुरुवार को बगल के गांव पांची में टीका केंद्र लगा, जहां से ये खबर भिजवाया गया कि कीचड़ के कारण टीका कर्मी वहां नहीं जा पाएंगे। गांव वालों को टीका लगवाना हो तो पांची गांव आ जाएं। गांव के लोगों ने इस बात का विरोध करते हुए कहा कि गांव में सड़क नहीं है, तो इसके दोषी हम ग्रामीण नहीं हैं। सभी गांववालों को दूसरे गांव में जाकर टीका लगवाना सम्भव नहीं है। अगर गांव में टीका केंद्र नहीं बनाया गया तो हमलोग टीका नहीं लेंगे। गांव वालों ने स्थानीय प्रशासन पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए वरीय अधिकारियों से इस मामले में पहल की अपील की है।

Back to top button
error: Content is protected !!