पटनाप्रशासनशेखपुरा

फिर से आयोजित होगा ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम, जिलास्तर पर शुरू हुई तैयारी

Sheikhpura: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर से लोगों की फरियाद सुनेंगे। पांच साल बाद एक बार फिर से मुख्यमंत्री जनता के सामने होंगे। उनकी शिकायतों को सुनेंगे। ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम हर सोमवार को आयोजित होगा, जिसमें आमलोग अपनी समस्याएं लेकर पटना पहुंचेंगे। इस कार्यक्रम को लेकर सरकार के मुख्य सचिव ने फरियादियों के आने की सुविधा का इंतजाम जिला स्तर से प्रदान करने का निर्देश दिया है।

इस निर्देश के बाद जिलाधिकारी इनायत खान के द्वारा इस कार्यक्रम से संबंधित आवेदन पत्रों के निस्तारण एवं प्राप्त निर्देशों के अनुपालन के लिए जिला स्तर पर एक कोषांग का गठन किया गया है। जिसमें वरीय उप समाहर्ता सोनी कुमारी, आईटी मैनेजर प्रशांत कुमार के अलावे पांच अन्य कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। वहीं वरीय प्रभार में अपर समाहर्ता सह जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी को प्रतिनियुक्त किया गया है। वे अपने निगरानी में कोषांग का संचालन कराएंगे, साथ ही समय-समय पर कृत कार्रवाई की सूचना जिलाधिकारी को देंगे। यह कोषांग श्रीकृष्ण सभागार के पुराने सभा कक्ष में संचालित होगा। सभी प्रतिनियुक्ति अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पत्र प्राप्ति के 24 घंटे के अंदर इस कोषांग में योगदान समर्पित करने का निर्देश भी दिया गया है।

बताते चलें कि आगामी 12 जुलाई से जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम प्रस्तावित है। मुख्यमंत्री सचिवालय में इसके लिए एक बिल्डिंग बनकर तैयार है। ज्ञात हो कि जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम साल 2016 में बंद कर दिया गया था। उसके बाद लोक शिकायत निवारण कार्यक्रम की शुरुआत की गई थी। लेकिन बाद के दिनों में जनता के अनुरोध मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम को सुचारू करने की घोषणा की थी। हालांकि कोरोना संक्रमण के कारण इसकी शुरुआत में थोड़ी देरी हो गई।

Back to top button
error: Content is protected !!