जागरूकताशेखपुरास्वास्थ्य

लोगों ने टीके के प्रति फैले भ्रम को तोड़कर महा टीकाकरण अभियान में बनाया रिकॉर्ड, बीडीओ ने सभी को दिया धन्यवाद

सभी विभागों के कर्मियों, जन प्रतिनिधियों एवं सामाजिक कार्यकर्त्ताओं के अथक प्रयास से टीका केंद्रों भीड़ उमड़ पड़ी। यहां 8 टीका केंद्रों पर कुल 900 लोगों को टीका लगाया गया।

Sheikhpura: टीकाकरण महा अभियान में आज बरबीघा प्रखंड में रिकॉर्ड टूट गया। साथ ही लोगों ने टीके के प्रति फैले भ्रम को भी तोड़ दिया। सभी विभागों के कर्मियों, जन प्रतिनिधियों एवं सामाजिक कार्यकर्त्ताओं के अथक प्रयास से टीका केंद्रों भीड़ उमड़ पड़ी। यहां 8 टीका केंद्रों पर कुल 900 लोगों को टीका लगाया गया।

जानें कहाँ कितने लोगों को लगाया गया टीका
इस महाअभियान में सबसे ज्यादा पांक पंचायत के पुनेसरा गाँव में कुल 190 लोगों को टीका लगाया गया। जिसमें मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक, सहायक शिक्षक, समन्वयक रेणु कुमारी एवं आंगनबाड़ी सेविका वंदना कुमारी का अहम योगदान रहा।

पुनेसरा गांव में टीकाकरण

वहीं दूसरे नम्बर कुटौत पंचायत का धरसेनी गांव में कुल 150 लोगों ने टीका लगवाया। यहां स्थानीय मुखिया बॉबी देवी ने सबसे पहले आकर टीका लिया। जिसके बाद पंचायत सचिव उमेश कुमार के सहयोग एवं संदीप भारती के अथक प्रयास से लोगों की भीड़ उमड़ गई।

धरसेनी गांव में टीका लगवाती मुखिया बॉबी देवी

इसी प्रकार रमजानपुर में काफी देर प्रयास के बाद 130, सरैया में जीविका दीदियों के मदद से 120, बबनबीघा में स्थानीय समाजसेवियों की मदद से 100, नरसिंहपुर में जन प्रतिनिधियों की मदद से 90, मिशन हाई स्कूल में 50, फत्तेचक एवं काशीबीघा में 30-30 एवं सबसे कम बरबीघा रेफरल अस्पताल में मात्र 10 लोगों का टीकाकरण किया गया।
बीडीओ ने सभी को दिया धन्यवाद
इस बात की जानकारी देते हुए प्रखण्ड विकास पदाधिकारी भारत कुमार सिंह ने बताया कि टीकाकरण को लेकर ग्रामीणों के मन में कई तरह की भ्रांतियां फैली हुई थी।

टीकाकरण केंद्र पर कार्य करते कर्मी

जिसके बाद पंचायती राज पदाधिकारी सर्वेश कुमार, अस्पताल के प्रशासनिक पदाधिकारी डॉ फैसल अरशद, पिरामल के नीरज कुमार, स्वास्थ्य प्रबंधक राजन कुमार, अमन कुमार, पर्यवेक्षिका रिंकी कुमारी, शरबत मुनव्वर, सभी डीलर, आशा, सेविका, सहायिका जीविका दीदियों आदि के द्वारा लोगों को घर-घर जाकर लोगों को समझाया गया। उन्होंने कहा कि इस सफलता में स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं समाजसेवियों का भी महत्वपूर्ण योगदान है, जिसके लिये वे धन्यवाद के पात्र हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!