खास खबरप्रशासनरोजगारशेखपुरा

बैंकर्स परामर्श दात्री समिति की त्रैमासिक एवं जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति की मासिक बैठक का हुआ आयोजन

कोरोना से प्रभावित लोगों को भारतीय रिर्जव बैंक के रिजोलूशन फर्म वर्क के तहत योग्य ऋण कर्ता को ऋण के पुर्नगठन सहित दो वर्ष तक ऋण भुगतान स्थगन कर देने के प्रावधान को समय से लागू करने का अनुरोध

Sheikhpura: जिला स्तरीय बैंकर्स परामर्श दात्री समिति की त्रैमासिक एवं जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति की मासिक बैठक का आज आयोजन किया गया। उप विकास आयुक्त सह जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में अग्रणी जिला प्रबंधक, जिला विकास प्रबंधक, नाबार्ड आर बी ई उप महानिदेशक, जिला वित्तीय समावेशन समन्वयक, नीति आयोग, आरसीटी डायरेक्टर, कैनरा एवं ग्रामीण बैंक के एफएलसी, सभी बैंक के जिला समन्वयक शामिल हुए।
बैंकों द्वारा बांटे गए ऋण की दी जानकारी
इस बैठक में बताया गया कि मार्च त्रैमासिक के सीडी अनुपात 41.58% है। वहीं 40% से कम सी डी अनुपात वाले बैंकों को सुधार हेतु निर्देश दिया गया। साथ ही यह भी बताया गया कि वार्षिक साख योजना के तहत जिले के लक्ष्य (1250 करोड़) का 79% कुल 990.35 करोड़ ऋण वितरित किया गया। जो कि पिछले वर्ष की तुलना में 33.41% अधिक है। वहीं उप विकास आयुक्त सह जिलाधिकारी सत्येन्द्र कुमार सिंह के द्वारा कृषि क्षेत्र के अन्य गतिविधियों के अंतर्गत मुर्गीपालन, मत्स्य पालन, मवेशी पालन के तहत ऋण देने का निर्देश दिया गया। ताकि इस महामारी के दौर में रोजगार सृजन हो सके। साथ ही उन्होंने छोटे-छोटे कामगार के रोजगार सृजन हेतु मुद्रा लोन देने का भी निर्देश दिया।
लम्बित आवेदनों को जल्द से जल्द निष्पादन का निर्देश
PMEGP के तहत जिले का लक्ष्य 21 निर्धारित था। यहां बैंकों ने 200% से 44 लोगों को ऋण वितरित किया। समिति ने इसके लिये सभी बैंकर्स को धन्यवाद दिया। साथ ही वर्तमान वित्त वर्ष में निधारित लक्ष्य (21) के शत प्रतिशत समय पूर्व आच्छादन हेतु अनुरोध भी किया। बैठक में मौजूद भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतिनिधी राहुल कुमार के द्वारा डेयरी ऋण के लक्ष्य (86) से कम मात्र 36 ऋण निष्पादित होने पर असंतोष व्यक्त किया गया। साथ ही विभिन्न बैंकों के पास लम्बित 225 आवेदन तथा पीएम सम्मान निधी के 265 आवेदन को अगले 15 दिनों में निष्पादन करने का निर्देश भी दिया गया। जीविका के डीपीएम के द्वारा विभिन्न बैकों में साख सम्बंधित 367 लम्बित आवेदनों को जल्द से जल्द निष्पादित करने हेतु अनुरोध भी किया गया। बैठक में मौजूद ग्रामीण बैंक प्रतिनिधि के द्वारा अर्पूण आवेदन के कारण निष्पादन में कठिनाई के सवाल पर आपसी समन्वय का सुझाव दिया गया।

कोरोना से प्रभावित लोगों का ऋण पुनर्गठन
जिला अग्रणी प्रबंधक सुभाष कुमार भगत के द्वारा यह बताया गया कि कोरोना महमारी के कारण बहुत लोगों के रोजगार एवं द्रव्यता में कमी आयी है, जिसके कारण ऋण चुकाने में कठिनाई हो रही है। साथ ही भारतीय रिर्जव बैंक के रिजोलूशन फर्म वर्क के तहत योग्य ऋण कर्ता को ऋण के पुर्नगठन सहित दो वर्ष तक ऋण भुगतान स्थगन कर देने के प्रावधान को समय से लागू करने का अनुरोध किया गया।
आर सेटी ने भी जिले में प्रशिक्षण हेतु निर्धारण लक्ष्य का शत-प्रतिशत अनुपालन किया, जिस के वजह से संस्थान को AA ग्रेड दिया गया। वहीं भारतीय स्टेट बैंक के मुख्य प्रबंधक के द्वारा यह बताया गया कि कोरोना से प्रभावित परिवार को खुदरा ऋण योजना के तहत 5 लाख तक का ऋण मुहया कराया जा रहा है।
बैंकों की सुरक्षा हेतु दिया गया निर्देश
उपविकास आयुक्त ने बैंको की सुरक्षा पर ध्यान देते हुए बैंक, जिला समन्वयकों को रोजाना पेट्रोलिंग, सीसीटीवी, एटीएम फ़्रॉड, साइबर क्राइम पर ध्यान केंद्रित करने को कहा एवं जिला स्तर पर समन्वय स्थापित करने का निर्देश भी दिया। इस बैठक में जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति में आकांक्षी जिला अंतर्गत प्रधानमंत्री-जन धन योजना, सुरक्षा बीमा योजना, जीवन ज्योति बीमा योजना एवं अटल पेंशन योजना पर भी चर्चा किया गया।

Back to top button
error: Content is protected !!