खास खबर

मीडिया में दो भाइयों के अपनी दुकान के स्टाफ के साथ अप्राकृतिक यौनाचार की खबर निकली झूठी, पढ़ें पूरा सच

बीते दिनों मीडिया में एक खबर चली। जिसमें शेखपुरा जिले के बरबीघा नगर परिषद क्षेत्र के दो सहोदर भाइयों के खिलाफ अपनी दुकान में काम करनेवाले नाबालिग युवक पर अप्राकृतिक यौनाचार का आरोप लगाया गया। हालांकि इस बाबत स्थानीय थाने को कोई सूचना नहीं दिया गया था। इस बात की पुष्टि मिशन ओ पी थानाध्यक्ष मनोज कुमार झा ने भी किया है। मामले की पड़ताल में कहानी कुछ अलग ही सामने आई है। दरअसल छोटी संगत निवासी दुर्गेश कुमार व राजा कुमार नामक दो भाई शादी-विवाह में खाना बनाने का काम करते हैं। साथ ही छोटी संगत में ठाकुरबाड़ी के आगे ठेला लगाकर नाश्ते की दुकान चलाते हैं। सारा मामला इसी दुकान की खातिर ही गढ़ा गया है। कुछ लोग वहां अपनी दुकान लगाना चाहते हैं। इसीलिये नाबालिग युवक का पिता जो मानसिक रूप से कमजोर और गरीब भी है, उसको बहला-फुसलाकर पैसे मिलने का लालच देकर बयान लेकर खबर बना दिया गया। इस बात को उसने कैमरे के सामने कुबूल भी किया है। नाबालिग युवक गरीबी के कारण बहुत पहले इन दोनों भाइयों की दुकान में कार्य करता था। फिलहाल वो हरनौत में किसी दुकान में कार्य करता है ना कि वो वहां किसी निजी क्लीनिक में भर्ती है। उसने भी इस बात को सिरे से इनकार कर दिया है। हरनौत में काम करते वक़्त कुछ दिन पूर्व जब वो बीमार हुआ था तो राजा कुमार ने ही उसके पिता के कहने पर उसे वहां से अपने साथ लाकर उसे घर पहुंचाया था। मगही न्यूज के पास युवक एवं उसके पिता का पूरा कुबूलनामा वीडियो में कैद है। आपसी विद्वेष में इस तरह किसी को बदनाम करने की साजिश करना कहाँ तक जायज है? ऐसे में ये सवाल उठता है कि इस पूरे प्रकरण में उन दोनों भाइयों की समाज में हुई बदनामी का जिम्मेदार कौन होगा?

Back to top button
error: Content is protected !!