प्रशासनशेखपुरा

सरकार और प्रशासन की कारगर पहल के बाबजूद नहीं मान रहे लोग, सड़कों पर लगी है भीड़

शेखपुरा जिले में कोरोना का कहर किसी से छुपा नहीं है। जिला प्रशासन लोगों की सुरक्षा के लिए लगातार प्रयासरत्त है। टीकाकरण और जांच की गति को तेज कर दिया गया है। प्रशासनिक स्तर पर हर दिन मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। सभी वरीय पदाधिकारी और प्रखण्ड स्तरीय पदाधिकारी सड़क पर उतर चुके हैं। जगह-जगह मास्क चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। बाबजुद इसके सड़क का हाल कुछ और ही कहानी बयां कर रहा है। ये बरबीघा बाजार का मुख्य लाला बाबू (थाना) चौक का नजारा है। यहां आधे से अधिक लोग बिना मास्क के ही बाजारों में घूम रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का कहीं नामो-निशान नहीं दिख रहा है। कोरोना से बेपरवाह लोग सड़कों पर है। हालात ये है कि अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, बेड कम पड़ते जा रहे हैं। अब ऐसे में सवाल ये उठता है कि ऐसा ही हाल रहा तो क्या हम कोरोना से जंग जीत पाएंगे? और क्या हम इतने तैयार हैं कि एक और लॉक डाउन झेल पाएंगे? सच पूछिए तो इसका कोई जवाब नहीं है। सरकार और प्रशासन के कारगर पहल के बाबजुद हम अपने कर्तव्यों से कहीं न कहीं चूक रहे हैं। मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हमारे हित की बात है। हमने पिछली बार भी इसको नहीं माना था, नतीजा भुगतना पड़ा लॉक डाउन के रुप में। हम इस बार भी नहीं मान रहे हैं और हर दिन लॉक डाउन की तरफ कदम बढ़ाते जा रहे हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!