धर्म और आस्थाशेखपुरा

चैत्र महीने की सोमवारी अमावस्या पर महिलाओं ने की पूजा-अर्चना

चैत्र महीने की सोमवती अमावस्या के पावन दिन पर आज शेखपुरा जिले में बड़ी संख्या में महिलाओं ने उपवास रखा और पीतल वृक्ष की पूजा की। मन की शांति, पति के दीर्घायु होने और कष्टों का निवारण हेतु महिलाओं के द्वारा पुुुरेे विधि- विधान से आज सुबह से ही पीपल वृक्ष के नीचे पूजा-अर्चना कर फेरी लगाया गया। शास्त्रों के अनुसार चैत्र अमावस्या को स्नान, दान और श्राद्ध की अमावस्या भी कहा जाता है। इस अमावस्या में रात के समय आसमान पर चांद नहीं दिखाई देता है, इस कारण इसे दर्श अमावस्या भी कहा जाता है। लेकिन इस अमावस्या का आध्यात्मिक दृष्टिकोण से काफी महत्व है। मान्यता है कि इस दिन पूजा करने से सुख, शांति, समृद्धि और कल्याण होता है। परिवार में शांति और एकता बनी रही इसके लिए लोग इस दिन मन से पूजा करते हैं। बताते चलें कि चैत्र अमावस्या अक्सर सोमवार को ही पड़ता है। लेकिन इस बार यह रविवार 11 अप्रैल से शुरू हुआ है और आज तक रहेगा। कहा जाता है कि इस दिन सच्चे मन से जो भी मन्नत मांगी जाती है वो जरूर पूरी होती है।

Back to top button
error: Content is protected !!