जरा हट केजागरूकताजानकारीशेखपुरा

आधे से ज्यादा सरकारी कार्यालयो में नहीं हो रहा सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन, सड़कों पर भी लोग हैं लापरवाह, कैसे रुकेगा कोरोना?

शेखपुरा सहित पूरे बिहार में कोरोना ने एक बार फिर से अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। राज्य सरकार की तरफ से सभी शिक्षण संस्थानों को बंद कर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने सहित भीड़ नहीं लगाने का निर्देश जारी किया गया है। वहीं सरकारी अधिकारियों को भी इसका कड़ाई से अनुपालन करवाने का निर्देश दिया गया है। बाबजूद इसके लोग सड़कों पर लापरवाही से बिना मास्क के घूम रहे हैं, भीड़ भी लग रही है। सरकार के गाइड लाइन का इनपर कोई असर होता नहीं दिख रहा है। आज मगही न्यूज ने बरबीघा शहर का जायजा लिया। जिसमें आधे से अधिक सरकारी कार्यालयों में लोग बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के कार्य कर रहे हैं। जिनमें कार्यालय कर्मी भी शामिल हैं। बात चाहे सूचना एवं प्रौद्योगिकी भवन के RTPS काउंटर की हो चाहे रेफरल अस्पताल की। हर जगह एक ही हाल है।

प्रखण्ड कार्यालय RTPS काउंटर का एक दृश्य

प्रखण्ड कार्यालय में जब RTPS के कंप्यूटर ऑपरेटर की नजर जब कैमरे पर पड़ी तो हड़बड़ाहट में उन्होंने मास्क निकालना शुरू कर दिया।

रेफरल अस्पताल में कोरोना जांच और टीकाकरण कार्यक्रम में लगी भीड़

जबकि रेफरल अस्पताल में कोरोना जांच और टीकाकरण करवाने आये लोगों में से आधे से ज्यादा बिना मास्क के थे। सोशल डिस्टेंसिंग का तो नाम ही लेने वाला वहां कोई नहीं दिखा।

बरबीघा थाने में कड़ाई से हो रहा कोरोना गाइड लाइन का पालन

वहीं दूसरी तरफ जब हमने बरबीघा पुलिस थाने का जायजा लिया तो वहां थानाध्यक्ष सहित सभी कर्मी मास्क लगाकर कार्य करते पाए गए। इस बाबत थानाध्यक्ष जयशंकर मिश्र ने बताया कि थाना परिसर में बिना मास्क के लोगों का प्रवेश वर्जित है। सभी कर्मी व आने-जाने वाले लोगों को सख्ती से इसका पालन करवाया जा रहा है। साथ ही उन्होंने आम लोगों से भी सरकार के द्वारा जारी इस गाइड लाइन के पालन का अनुरोध किया है। साथ ही हमने लाला बाबू (थाना) चौक सहित बाजार का भी जायजा लिया जहां मात्र 10% लोग ही सरकार के गाइड लाइन का पालन करते देखे गए। अगर आने वाले दिनों में भी ऐसी स्थिति रही तो कोरोना को रोकना असम्भव होगा, इसमें कोई दो राय नहीं है।

Back to top button
error: Content is protected !!