खास खबर/लोकल खबरशेखपुरा

पिरामल फाउंडेसन ने टेलीमेडिसिन के माध्यम से जाना होम कोरेंटिंन में रहने बाले लोगों का हाल, दी गई कई जानकारी

शेखपुरा जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के सहयोगी संस्था पिरामल फाउंडेशन द्वारा चालित होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों का टेलिमेडिसिन के माध्यम से प्रथम दिन उसके स्वास्थ्य की जानकारी जैसे- अगर व्यक्ति पूर्व में किसी बीमारी जैसे डायबिटीज, हाइपरटेंशन, किडनी, हृदय से संबंधित बिमारियों से पीड़ित तो नहीं है। साथ ही अभी वह वर्तमान में कोविड-19 के पॉजिटिव होने से संबंधित लक्षण जैसे सर्दी, जुकाम, बुखार, खांसी, गले में दर्द, गंध का ना मिलना आदि तो नहीं है। इन सारी जानकारियों से अवगत होने के पश्चात मरीज के होम आइसोलेशन में रहने के निर्णय एवं उसके घर व कमरों की जानकारी लेते हैं। ताकि इसके माध्यम से जान सके कि उसके घर में रहने से घर के अन्य सदस्यों को कोविड-19 संक्रमण की संभावना तो नहीं है। इसके बाद काउंसलर द्वारा उनको घर में रहने की जानकारी दी जाती है। उनको घर में कैसे रहना है। मास्क का प्रयोग कब करना है, खाने के बर्तन अलग होने चाहिए, शौचालय की व्यवस्था अलग होनी चाहिए, घर के लोगों से आइसोलेशन के दौरान दूरी बनाकर रहना है। त साथ ही मास्क का डिस्पोजल, हाथों की सफाई पर विशेष ध्यान देने की बात बताई जाती है। ताकि आस पास के पर्यावरण को भी सुरक्षित व संक्रमण से बचाया जाय। होम आइसोलेशन के दौरान अगर कोई लक्षण उभर कर आते हैं तो शीघ्र इसे स्थापित कॉल सेंटर में देने की बात बताई जाती है। अगर मरीज को कोई असुविधा जैसे सांस लेने में परेशानी, शरीर में ऑक्सीजन लेवल में गिरावट महसूस हो तो शीघ्र सूचीत करने की बात बताई जाती हैं। अगर वह डॉक्टर से सलाह लेना चाहता है तो वीडियो कॉलिंग की सहायता से कॉल करके बात कर सकता है। पुनः जब उसी मरीज को पांचवें, दसवें और 14वें दिन कॉल किया जाता है तो उसके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाती है, मसलन वह दवाइयां खा रहा है कि नहीं, दवाईयों के खाने से लाभ मिला है या नहीं। चुकि मरीज अपने सारे कार्यकलापों काम धंधो को छोड़कर घर में एकांतवास में होता है और उसकी मानसिक स्थिति भी इससे कहीं ना कहीं प्रभावित होती है। तब उससे भी संबंधित उसकी काउंसलिंग की जाती है, ताकि मानसिक मजबूती भी मिल सके। किसी भी रोग से लड़ने में शारीरिक शक्ति के साथ-साथ मानसिक मजबूती का विशेष योगदान होता है। पिरामल फाउंडेशन द्वारा संचालित इस टेलीमेडिसिन सेंटर में कार्यरत प्रशिक्षित कर्मियों के द्वारा बखूबी इसे निभाया जाता है।

Back to top button
error: Content is protected !!