खास खबर/लोकल खबरधर्म और आस्थाशेखपुरा

मज़हब की दीवारों को फांदकर हिन्दू बहन पहुंची मुस्लिम भाई के घर, कलाई में बांधी राखी, एकता और सौहार्द का लिया वचन

रक्षा बंधन की पवित्र कहानी किताबों और समाचार पत्रों की सुर्खियां बनती रही है। ये आज शेखपुरा में भी देखने को मिला पटना की एक हिन्दू बहन मज़हब की दीवारों को तोड़कर यहां आ पहुंची। मुस्लिम भाई की कलाई में राखी बांधने और इस पवित्र रिश्ते के गबाह बने कई मुश्लिम परिवार। जी हां यह कोई फ़िल्म की कहानी नहीं है, बल्कि शेखपुरा जिला लोजपा जिलाध्यक्ष मो इमाम ग़ज़ाली की सच्ची कहानी है। मो इमाम ग़ज़ाली का पूरा परिवार पटना में रहता है और पड़ोस की नेहा कई वर्षों से मुस्लिम भाई की कलाई में राखी बांधते आ रही है।

लेकिन इस वर्ष का रक्षा बंधन इस लिए महत्वपूर्ण है कि जब कोरोना के कारण जब राखी का पर्व फ़ीका है, तो वैसे समय में पटना से चलकर शेखपुरा पहुंची हिन्दू बहन ने मुस्लिम भाई की कलाई में राखी बांध कर साम्प्रदायिक एकता का परिचय दिया है। हिन्दू बहन के जज़्बे को सलाम है जिन्होंने एक मुस्लिम भाई से अपनी और देश की सुरक्षा के लिए आशीर्वाद मांगा है। दूसरी तरफ लोजपा जिलाध्यक्ष मो इमाम ग़ज़ाली ने भी एक सच्चे मुसलमान का फर्ज अदा करते हुए अपनी बहन को जीवन की किसी मोड़ पर हर तरह के सहयोग करने का वचन दिया है। मो इमाम ग़ज़ाली ने कहा कि मज़हब नहीं सीखाता आपस मे बैर रखना। हम हिन्दुतान के लोग हैं जहाँ सभी मज़हब का अदब है। खैर आइए हम लोग मिलकर भी हिन्दू बहन को इस मौके पर बधाई दें।

Back to top button
error: Content is protected !!