शेखपुरासमाजसेवा

कोरोना काल में एक मकान मालिक ने दिखाई दरियादिली, अपने मकान के कोचिंंग संचालकों का किया किराया माफ

कोरोना वायरस के कहर के कारण मार्च महीने से ही सभी कोचिंग संस्थान बंद पड़ा हुआ है। इससे बड़े पैमाने पर जिले में कोचिंग संचालन कर रहे शिक्षकों के समक्ष भारी आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है। घर का खर्च भी चलाना मुश्किल हो गया है। अधिकांश कोचिंग संचालक किराए के मकान में कोचिंग का संचालन कर रहे हैं। जिसके कारण पिछले 5 महीने से कोचिंग के किराये के रूप में कर्ज बढ़ता जा रहा है। इसमें कई कोचिंग संचालक कर्ज में डूब गए हैं।

कोचिंग बंद रहने तक किराया नही लेने का लिया निर्णय

आर्थिक तंगी के बीच एक मकान मालिक के निर्णय से कोचिंग संचालक यूनियन से जुड़े लोग इतने खुश हो गए कि वह मकान मालिक का पोस्टर बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं और सरकार पर निशाना साध रहे हैं।

कोचिंग संचालकों द्वारा वारयल पोस्टर

दरअसल शहर के गिरिहिन्डा के रहने वाले निवास शर्मा ने अपने मकान में संचालित कोचिंग संचालकों से कोरोना के कारण उत्पन्न स्थिति को देखते हुए कोचिंग बंद रहने की अवधि तक किराया नहीं लेने का निर्णय लिया है।

मकान मालिक के फैसले से खुश हैं कोचिंग संचालक

जिससे कोचिंग संचालकों में भारी खुशी व्याप्त हो गई है और इसी को लेकर कोचिंग संचालक एक पोस्टर बनाकर इसे वायरल करते हुए सरकार पर निशाना साध रहे हैं। इस तरह का पोस्टर वायरल होने के बाद मकान मालिक की चर्चा चहुँओर होने लगी है। कोरोना के इस आर्थिक संकट से जूझ रहे अन्य कोचिंग संचालकों के बीच उन्होंने एक उम्मीद जगा दी है। इनके मकान में 6 शिक्षक रूम किराया लेकर पढ़ाते थे।

Back to top button
error: Content is protected !!