राजनीतिशेखपुरा

सीपीआई की बैठक में 24 मार्च को किसानों के विधानसभा मार्च की तैयारी के लिये बनाई गई रणनीति

शेखपुरा सीपीआई जिला परिषद की शहर के कार्यानन्द शर्मा भवन आज एक बैठक आयोजित की गई। कैलाश दास की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई इस बैठक में पार्टी के नेता प्रभात कुमार पांडेय ने बताया कि बैठक में 24 मार्च को किसानों के विधानसभा मार्च की तैयारी के लिये रणनीति बनाई गई। इस मौके पर उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानून सिर्फ किसान विरोधी ही नहीं बल्कि जनविरोधी भी है। इस कानून के सहारे सरकार कालाबाजारी, जमाखोरी की छूट देकर एक बार फिर कंपनी राज स्थापित कर देश के अंदर करना चाहती है। एक तरफ गुलाम भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के गोदाम में अनाज भरा पड़ा था और लाखों लोग भूख से तड़प-तड़प कर मर रहे थे। न्यूनतम निर्धारित मूल्य पर किसानों से गल्ला खरीदारी की गारंटी का कानून में प्रावधान ना कर सरकार ने अपनी मंशा स्पष्ट कर दी है। इसीलिए दिल्ली किसान आंदोलन के पक्ष में 24 मार्च को बिहार विधानसभा घेराव करने हेतु शेखपुरा जिला के हर घर से लोगों को चलने की जरूरत आ पड़ी है। इस संदेश को पार्टी के सदस्यों के द्वारा जन-जन तक पहुंचाने की रणनीति बनाई गई। साथ ही चेबाड़ा में 17 मार्च को जिले भर का एक बड़ा किसान महापंचायत लगाने का फैसला लिया गया। इसके अलावा बैठक में पंचायत चुनाव की तैयारी पर भी गंभीरता पूर्वक विचार किया गया और जिले के सभी शाखाओं में चुनाव की तैयारी के लिए भी रणनीति बनाई गई। इस बैठक में राजेंद्र प्रसाद सिन्हा, रामाशंकर सिंह, अधिवक्ता सीताराम मांझी, शिवबालक सिंह, धर्मराज कुमार, नीधीश कुमार गोलू, राजेंद्र प्रसाद, सुविधा देवी, मालती देवी, केदार राम, गुलेश्वर यादव, चंद्रभूषण प्रसाद, ललित शर्मा, धनंजय पांडे, नुनु लाल यादव, रामाशीष पासवान, श्यामसुंदर चौहान आदि मौजूद थे।

Back to top button
error: Content is protected !!