खेती-बाड़ीशेखपुरा

छः दिवसीय मधुमक्खी पालन प्रशिक्षण हुआ सम्पन्न, प्रशिक्षुओं को मिला प्रमाण पत्र

शेखपुरा जिला कृषि विज्ञान केंद्र, अरियरी में मधुमक्खी पालन हेतु चलाये जा रहे छह दिवसीय प्रशिक्षण शिविर कल संपन्न हो गया। प्रशिक्षण के बाद 30 प्रशिक्षुओं को प्रमाण पत्र भी वितरण किया गया। इस प्रशिक्षण में बड़ी संख्या में जिले के युवक और युवतियों ने भाग लिया। इस संबंध में जानकारी देते हुए कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक विनय कुमार मंडल ने बताया कि प्रशिक्षण के बाद बेरोजगार युवक और युवती मधुमक्खी पालन कर अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं। मधुमक्खी पालन के लिए किसानों के पास भूमि की आवश्यकता नहीं है। भूमिहीन किसान भी मधुमक्खी पालन कर अपनी जीविका चला सकता हैं। साथ ही मधुमक्खी पालन करने वाले दूसरे को भी रोजगार दे सकते हैं। मधुमक्खी पालन से क्षेत्र के आस-पास खेती में भी मदद मिलती है। खेतों में मधुमक्खी द्वारा पर परागण के कार्य किए जाने से खेती की उपज 40% तक बढ़ सकती है। मधुमक्खी पालन को लेकर कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा लगातार तकनीकी मदद भी दिए जाने की जानकारी दी गयी। साथ ही इस स्वरोजगार के लिए बैंक द्वारा ऋण भी दिए जाने का प्रावधान है। इस समापन कार्यक्रम में केंद्र प्रभारी डॉ विनय कुमार मंडल, कृषि वैज्ञानिक डॉ जावेद इदरीश, डॉ नवीन कुमार, डॉ डी एन पांडेय, संगीता कुमारी, शबाना सहित अन्य लोग मौजूद थे

Back to top button
error: Content is protected !!