धर्म और आस्थाशेखपुरा

राममंदिर निर्माण की पहली ईंट रखने वाले कामेश्वर चौपाल आएंगे बरबीघा, लोगों को करेंगे जागरूक

श्री राम जन्मभूमि समर्पण अभियान के तहत लोगों को जागरूक करने शेखपुरा जिले के बरबीघा में 19 फरवरी को राममंदिर निर्माण की पहली ईंट रखने वाले आर एस एस के पहले कारसेवक का दर्जा प्राप्त कामेश्वर चौपाल पधार रहे हैं।

इस बात की जानकारी देते हुए श्री राम जन्मभूमि समर्पण अभियान के पालक नवीन कुमार ने बताया कि इस दिन बरबीघा में भव्य शोभा यात्रा निकाली जाएगी। उन्होंने बताया कि श्री राम जन्मभूमि समर्पण अभियान बरबीघा में जोर शोर से चल रहा है। जिसमें बरबीघा के आम जनता का भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है। अभी तक बरबीघा नगर पंचायत से लगभग 4 लाख रुपये का कलेक्शन हुआ है। यह अभियान आगामी 27 फरवरी तक चलेगा। उन्होंने इस न्यूज़ के माध्यम से अपील किया है कि जो लोग अभी तक समर्पण नहीं कर पाए हैं। वो आगे आकर समर्पण करें एवं लोगों को प्रोत्साहित भी करें।
कौन हैं कामेश्वर चौपाल
बिहार के निवासी कामेश्वर चौपाल दलित समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। 1989 के राम मंदिर आंदोलन के समय हुए शिलान्यास में कामेश्वर ने ही राम मंदिर की पहली ईंट रखी थी। आरएसएस ने उन्हें पहले कारसेवक का दर्जा दिया है। वह 1991 में रामविलास पासवान के खिलाफ चुनाव भी लड़ चुके हैं।
1989 में विहिप ने किया था शिलान्यास
नवंबर 1989 में राम मंदिर के शिलान्यास का कार्यक्रम रखा गया था। उस समय कामेश्वर चौपाल अयोध्या में ही मौजूद थे। वे एक टेंट में रह रहे थे। उनके कमरे में विहिप के तत्कालीन प्रमुख अशोक सिंघल के एक करीबी व्यक्ति आए और उन्हें बताया कि आपको शिलान्यास के लिए चुना गया है। इसके बाद चौपाल ने ही राम के मंदिर निर्माण की पहली ईंट रखी थी।

Back to top button
error: Content is protected !!